चीन से तनातनी के बीच भारत ने रूस से की 18 हजार 148 करोड़ की बड़ी रक्षा डील

नई दिल्ली, 2 जुलाई: चीन के साथ लाइन ऑफ़ एक्चुअ कण्ट्रोल ( LAC ) पर चल रही तनातनी के बीच भारत ने रूस से हजारों करोड़ रूपये की बड़ी डील की है।

बता दें कि – लद्दाख में चीन से तनातनी के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने फोन पर रूस के राष्ट्रपति ब्लादिमीर पुतिन से बातचीत की, इसके कुछ देर बाद रक्षा सौदों की जानकारी दी. पीएम नरेंद्र मोदी से बातचीत में रूसी राष्ट्रपति पुतिन ने कहा कि भारत और रूस के बीच सामरिक सबंध और मजबूत होंगे।

रक्षा मंत्रालय ने रूस से 33 फाइटर जेट खरीदने का एलान किया है। इसके लिए कुल बजट 18 हजार 148 करोड़ रखा गया है। इसमें भारत अपने दोस्त रूस से सुखोई-30 और मिग-29 विमान खरीदेगा।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, रक्षा मंत्रालय ने रूस से 33 नए फाइटर जेट खरीदने को मंजूरी दी है। इसमें 12 सुखोई-30 लड़ाकू विमान और 21 मिग-29 भी शामिल हैं। इसके साथ ही पहले से मौजूद 59 मिग-29 को अपग्रेड भी करवाया जाएगा। रक्षा मंत्रालय ने 248 एस्ट्रा एयर मिसाइल की खरीदी की भी इजाजत दी। यह भारतीय एयर फोर्स और नेवी दोनों के काम आ सकेगी।

बता दें कि हाल ही में रक्षामंत्री राजनाथ सिंह रूस के दौरे पर गए थे, इसी दौरान ये रक्षा समझौता हुआ. चीन के साथ ताजा हालात को लेकर ये समझौता काफी अहम् माना जा रहा है. इसके अलावा फ़्रांस भी समय से पहले भारत को राफेल विमान सौंपेगा, माना जा रहा है कि जुलाई के अंत तक आधा दर्जन राफेल विमान आ जाएगा।

Sponsored Articles
loading...