कानपुर शूटआउट: नाबालिग था एनकाउंटर में मारा गया प्रभात मिश्रा, बहन ने किया दावा, सबूत भी दिए

कानपुर, 15 जुलाई: गुरूवार ( 2 जुलाई 2020 ) देर रात कानपुर में चौबेपुर के बिकरू गाँव में दबिश देने गई पुलिस पर विकास दुबे और उसके साथी बदमाशों ने ताबड़तोड़ गोलियां बरसाकर आठ पुलिसवालों को मौत के घाट उतार दिया था, यूपी पुलिस ने विकास दुबे सहित कई बदमाशों को एनकाउंटर में ढ़ेर कर दिया, जिसमें से एक कार्तिकेय उर्फ़ प्रभात मिश्रा भी था, जो एनकाउंटर में मारा गया, अब प्रभात मिश्रा को लेकर बड़ा खुलासा हुआ है, जी हाँ! कार्तिकेय उर्फ़ प्रभात मिश्रा की बहन ने दावा किया है कि वो नाबालिग था।

एनकाउंटर में मारे गए कार्तिकेय उर्फ़ प्रभात मिश्रा की बहन हिमांशी ने न्यूज़-18 से बातचीत करते हुए दावा किया कि प्रभात नाबालिग था, अभी मात्र 16 साल का था, सबूत के तौर पर हिमांशी ने प्रभात की मार्कशीट भी उपलब्ध कराई है, जिसमें उसकी जन्मतिथि 27 मई 2004 दर्ज है, विकास दुबे के करीबी रहे कार्तिकेय उर्फ प्रभात मिश्रा की बहन हिमांशी ने आरोप लगाते हुए कहा कि पुलिस ने बिना गलती के मेरे भाई को मार डाला। उधर, मेरे पिता को भी झूठा फंसाया गया है. उन्होंने कहा कि हमारे परिवार में किसी का क्रिमिनल रिकॉर्ड नहीं है. जबकि तीन बार तलाशी के बाद भी पुलिस को हमारे घर से कुछ नहीं मिला, वहीँ पुलिस ने दावा किया है कि प्रभात मिश्रा बिकरू गांव में पुलिस टीम पर गोलियां बरसाने में शामिल था।

Image

आपको बता दें कि कार्तिकेय उर्फ़ प्रभात मिश्रा को हरियाणा पुलिस ने फरीदाबाद से 8 जुलाई को गिरफ्तार किया था, फरीदाबाद से यूपी एसटीएफ की टीम प्रभात मिश्रा को ट्रांजिट रिमांड पर कानपुर ला रही थी, आरोप है कि इसी दौरान प्रभात मिश्रा ने एसटीएफ के सिपाही का हथियार छीनकर फायरिंग की और भागनें की कोशिश की, इसके बाद जवाबी कार्यवाही में एसटीएफ ने पनकी में प्रभात मिश्रा को एनकाउंटर में ढ़ेर कर दिया।

Image

बता दें कि आठ पुलिसकर्मियों के हत्यारोपी विकास दुबे, अमर दुबे, प्रभात मिश्रा समेत कई अपराधियों को यूपी पुलिस एनकाउंटर में ढ़ेर कर चुकी है जबकि कई गिरफ्तार किये जा चुके हैं, रोजाना इस केस से जुड़े नए-नए खुलासे हो रहे हैं।

Sponsored Articles
loading...