आतंकियों और अपराधियों को पनाह देते थे अखिलेश यादव, पूर्व DGP बृजलाल के खुलासे से मचा हड़कंप

लखनऊ, 4 जून: उत्तर प्रदेश के पूर्व पुलिस महानिदेशक ( डीजीपी ) बृजलाल ने सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव के खिलाफ बड़ा खुलासा करके हड़कंप मचा दिया है। पूर्व डीजीपी के मुताबिक़, यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव आतंकियों और अपराधियों को पनाह देते थे।

दरअसल गुरूवार ( 2 जुलाई 2020 ) देर रात कानपुर के बिकरू गाँव में बदमाश विकास दुबे और उसके साथी बदमाशों ने रेड मारनें गई पुलिस टीम पर ताबड़तोड़ गोलियां बरसाकर यूपी पुलिस के आठ जवानों को मौत के घाट उतारकर फरार हो गया। इस घटना के बाद सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने एक कार्टून ट्वीट किया है, इसी के जवाब में पूर्व डीजीपी बृजलाल का बयान आया है।

सपा प्रमुख अखिलेश यादव पर गंभीर आरोप लगाते हुए डीजीपी बृजलाल ने कहा कि आज मैनें अखिलेश यादव के ट्वीट को पढ़ा इन्होनें कानपुर में आठ पुलिसकर्मियो की शहादत का अपमान किया है। शहीदों के अलावा अखिलेश ने उत्तर प्रदेश के 3 लाख पुलिस अधिकारियों-कर्मचारियों का अपमान किया है। पूर्व डीजीपी ने कहा, ये अपमान वो व्यक्ति कर रहा है जिसनें खुद अपनें कार्यकाल में आतंकियों और अपराधियों को पनाह दिया है जिसका मैं स्वयं भुक्तभोगी रहा हूँ।

डीजीपी बृजलाल ने आगे कहा कि अखिलेश यादव क्या जानें पुलिस मुठभेड़ होती क्या है, जहाँ छोटे स्तर के कर्मचारी-अधिकारी लड़ते हैं। जिंदगी एवं मौत में चंद सेकंड का फासला होता है। डीजीपी ने कहा, मैनें खुद 19 मुठभेड की है एडीजी स्तर पर मैंने गोली चलाई है 18 जून 2009 को, मेरे सेवा काल में मेरे निर्देशन में 300 से अधिक दुर्दांत अपराधी और आतंकवादी मारे गये। मैं जानता हूँ मुठभेड़ क्या होती है। अखिलेश यादव के लिए पुलिसकर्मियों की शहादत की कोई कीमत नही। उन्होंने तो हमेशा आतंकियों को पनाह दिया है।

एक पुरानी घटना का जिक्र करते हुए पूर्व डीजीपी बृजलाल ने बताया कि फ़ैजाबाद में हूजी के आतंकियों ने कचहरी में ब्लास्ट किया था। मैं उस समय स्पेशल डीजी लॉ एंड आर्डर था, मैनें आतंकियों को गिरफ्तार किया था। सपा सरकार आई, उसमें एक आतंकवादी खालिद मुजाहिद फ़ैजाबाद कचहरी में गया, लू लग गई, बाराबंकी आते-आते मर गया। तक मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने मेरे और 42 पुलिसकर्मियों के खिलाफ ह्त्या का मुकदमा कायम किया था।


पूर्व डीजीपी ने कहा, मुकदमा कायम करके अखिलेश यादव ने पुलिस को, एसटीएफ को सन्देश दे दिया कि आतंकियों और हमारे पालतू क्रिमिनलों की तरफ नजर मत उठाना। और इन्होनें ( अखिलेश यादव ) वो केस वापस ले लिया लेकिन अदालत ने केस वापस नहीं होने दिया और जो तारिक कासमी था उसका साथी खालिद तो मर गया तीन मामलों में आजीवन कारावास की सजा काटी। ऊपर आप पूर्व डीजीपी बृजलाल का वीडियो देख सकते हैं।

बता दें कि अखिलेश यादव ने कानपुर शूटआउट से सम्बंधित बीबीसी के जिस कार्टून को ट्वीट किया है, उस कार्टून में दिखाया गया है कि घटनास्थल पर पहुंचकर पुलिस बदमाशों से कह रही है हमनें तुम्हें चारों तरफ से घेर लिया है. इसके बाद बदमाश को कहते हुए दिखाया गया है ‘सेम टू यू’ अर्थात हमनें भी तुम्हें घेर लिया है। सोशल मीडिया पर लोग अखिलेश यादव को जमकर लताड़ लगा रहे हैं।

Sponsored Articles
loading...