खुलेआम भारत के विरोध में खड़ा हुआ वामपंथी नेता, कहा- भारत को चीन से डरना चाहिए

नई दिल्ली, 5 जुलाई: लद्दाख की गलवान घाटी में भारत और चीनी सैनिकों की झड़प के बाद पूरे देश में चीन के खिलाफ आक्रोश है, भारत के लोग चीनी राष्ट्रपति का पुतला फूंक रहे हैं, चीनी सामानों का बहिष्कार कर रहे हैं, वहीँ भारत में रहकर भारत का खाने वाले वामपंथी नेताओं ने चीन को दुश्मन मानने से साफ़ इनकार कर दिया है। भारत पर ही हमलावर हैं।

दरअसल आजतक न्यूज़ चैनल’ चैनल पर भारत और चीन के बीच उपजे विवाद को लेकर बहस चल रही थी, इस बहस में भाजपा, कांग्रेस प्रवक्ता, जेडीयू नेता और एक वामपंथी नेता मौजूद थे, सभी पैनलिस्ट चीन का विरोध कर रहे थे तो वहीँ वामपंथी नेता दिनेश वार्ष्णेय ने चीन को दुश्मन माननें से इनकार कर दिया। भारत चीन के खिलाफ जो आर्थिक कार्यवाही कर रहा है उसे भी गलत बताया।

कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ़ इण्डिया ( सीपीआई ) नेता दिनेश वार्ष्णेय का मानना है कि भारत जो चीन के खिलाफ आर्थिक एक्शन ले रहा है, ये सही नहीं है, भारत को चीन से डरना चाहिए। चीन से घबराना चाहिए भारत को, चीन से अगर गुस्सा करोगे तो युद्ध का उन्माद पैदा हो जाएगा। मोदी सरकार ने जो टिक-टॉक समेत 59 चाइनीज एप बैन कर दिया है वामपंथी नेता दिनेश वाष्णेय ने उसका भी विरोध किया।

बता दें कि – चीन में कम्युनिस्ट पार्टी की सरकार है, शायद इसीलिए भारत के कम्युनिस्ट नेता देश के बजाय पार्टी को ऊपर रख रहे हैं इसलिए चीन का समर्थन कर रहे हैं। गौरतलब है कि सोमवार ( 15 जून 2020 ) को गलवान घाटी में भारत और चीन सेना के बीच झड़प हो गई थी, इस हिंसक झड़प में भारतीय सेना के 20 जवान शहीद हो गए वहीँ चीन के भी 43 सैनिकों के मारे जाने की खबर सामनें आई।

Sponsored Articles
loading...