झारखंड की सोरेन सरकार पर मंडराये संकट के बादल, कॉन्ग्रेस के 9 MLA नाराज, दे सकते हैं इस्तीफ़ा

मध्यप्रदेश में कांग्रेस की सरकार जानें के बाद राजस्थान कांग्रेस सरकार पर आपसी कलह की वजह से संकट मंडराए और अब झारखंड की हेमंत सोरेन सरकार आपसी कलह की वजह से संकट में दिखाई दे रही है। बताया जा रहा है कि झारखंड में कुछ कोंग्रेसी विधायक नाराज हैं और वो अपनी शिकायत लेकर दिल्ली पहुंचे हैं, बताते चलें कि झारखंड में कांग्रेस और झामुमो की गठबंधन सरकार चल रही है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक़, उपेक्षा से नाराज काँग्रेसी विधायकों के नाम इरफान अंसारी, राजेश कच्छप और उमाशंकर अकेला है। इनके साथ राज्यसभा सदस्य धीरज प्रसाद साहू भी आए। सबने यहाँ सोनिया गाँधी के सलाहकार अहमद पटेल और गुलाब नबी आजाद से मुलाकात की। फिर झारखंड दोबारा लौट गए।

दिल्ली आए विधायकों ने सार्वजनिक तौर पर कुछ नहीं कहा है। लेकिन मीडिया में बताया जा रहा है कि उन्होंने कॉन्ग्रेस हाइकमान से यह गुहार लगाई है कि सोरेन सरकार में उनकी बिलकुल नहीं सुनी जाती। वहाँ कॉन्ग्रेस विधायकों के साथ सोरेन सरकार का रवैया भी ठीक नहीं है। इन्हीं हालातों के मद्देनजर सूचना है कि करीब 9 विधायक ऐसे हैं जो हेमंत सोरेन सरकार से नाराज हैं और आने वाले समय में मौजूदा सरकार की परेशानी बढ़ा सकते हैं।

विधायकों की यह भी माँग है कि राज्य में एक मंत्री पद खाली पड़ा हुआ, उसे जल्द से जल्द भरा जाए और वरिष्ठ विधायकों में से एक को मंत्री बनाया जाए। उनका कहना कि सरकार को चलाने में सबका सहयोग लिया जाना चाहिए। लेकिन सहयोगी पार्टी होने के बाद भी उन्हें तवज्जो नहीं मिल रही।

loading...