भारत-चीन विवाद: दुनिया खड़ी हुई भारत के साथ लेकिन कांग्रेस खड़ी हुई चीन के साथ, कहा- मोदी माफी मांगे

नई दिल्ली, 7 जुलाई: भारत और चीन के बीच लद्दाख में LAC पर पिछले कई महीनों से तनातनी जारी है, इस समय पूरी दुनिया में चीन के खिलाफ जबरदस्त आक्रोश है, अमेरिका, रूस, फ़्रांस, ऑस्ट्रेलिया, ताइवान, वियतनाम और जापान जैसे देशों ने तो खुलकर चीन को सबक सिखाने के लिए भारत का साथ देने का मन बना लिया है।

UN में भी चीन की कोई दाल नहीं गली और भारत का ही पक्ष मजबूत रहा। पूरी दुनिया ने इसे नरेंद्र मोदी की सफल कूटनीति माना लेकिन अगर नरेंद्र मोदी का खुलकर विरोध है तो वह है भारत और भारत के ही अंदर कुछ गिने-चुने राजनीतिक दल जिसमें मुख्य विपक्षी पार्टी कांग्रेस है। लद्दाख मुद्दे को लेकर कांग्रेस नरेंद्र मोदी के खिलाफ अपने आक्रामक तेवर ज्यों के त्यों जारी रखे हुए है।

राहुल गांधी के बाद अब कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता पवन खेड़ा ने मोर्चा संभाला है, खेड़ा ने कांग्रेस की ओर से प्रेस-कॉन्फ्रेंस की हैरानी की बात यह है कि प्रेस-कॉन्फ्रेंस में खेड़ा ने चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के बजाय सीधे-सीधे भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से माफी मांगने की मांग कर डाली है। एक बार फिर से कांग्रेस के इस बयान से और कांग्रेस की इस मांग से चीन की सरकार में खुशी की लहर देखने को मिल रही है।

कांग्रेस प्रवक्ता पवन खेड़ा यहीं पर नहीं रूके। उन्होंने कहा, पीएम मोदी राष्ट्र को संबोधित कर के भारत को विश्वास में लें व देश से माफी मांगे.. जबकि उधर भारत और चीन के बीच तनावपूर्ण स्थिति आज से कुछ सामान्य होती दिख रही है। भारत की ओर से राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने मोर्चा संभाला और अपने चीनी समकक्ष से बातचीत की।

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक रात तकरीबन दो घंटे तक दोनों शीर्ष अधिकारियों के बीच बातचीत हुई और उसके बाद चीन की सेना गलवान घाटी से पीछे हटने को मजबूर हुई। इस मामले पर अब कांग्रेस प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमलावर हो गई है। कांग्रेस प्रवक्ता पवन खेड़ा ने सोमवार को पीएम से माफी मांगने को कहा। गुमराह करने का आरोप चीन के बजाए कांग्रेस प्रवक्ता ने सीधे-सीधे भारत की सरकार पर लगाया है।

Sponsored Articles
loading...