इंटरनेशन बेइज्जती के डर से चीन ने उठाया ये कदम, चीनी सैनिकों के परिवारों को दिया कड़ा आदेश

पिछले कई हफ्तों से भारत और चीन के बीच लद्दाख में चल रहे सीमा विवाद के बीच अमेरिकी खुफिया एजेंसी ने बड़ा दावा किया है, चीन ने अपनी गलती, इंटरनेशनल बेइज्जती और हार से छिपने के लिये शहीदों के सम्मान के साथ समझौता कर रहा है। जबकि पूरी दुनिया को मालूम है कि गलवान घाटी में भारतीय सेना ने चीन के 40 से ज्यादा सैनिकों को मार गिराया था।

चीन की कम्युनिस्ट सरकार अपनें शहीद सैनिकों को पहचानने तक तैयार नहीं है, साथ ही सैनिकों के परिवारों पर दबाव बना रही है कि वे शवयात्रा और अंतिम संस्कार समारोह का आयोजन न करें।

गौरतलब है कि 15 जून को भारत और चीन के सैनिकों के बीच गलवान घाटी में झड़प हुई थी। इसमें भारत के 20 जवान शहीद हो गये थे। चीन के सैनिकों की भी जान गई थी। भारत ने बिना किसी हिचकिचाहट के सैनिकों के शहादत की बात को स्वीकार किया। शहीदों को सम्मानपूर्वक अंतिम विदाई दी गई। वहीं चीन लगातार अपने सैनिकों के नुकसान की बात से इनकार कर रहा है।

अमेरिकी खुफिया एजेंसी के मुताबिक़, चीन इस बात को स्वीकार नहीं कर रहा है कि गलवान में उसके सैनिकों की जान गई। ऐसा वह इसलिये कर रहा है कि अपनी एक बड़ी भूल को छुपा सके। मालूम हो कि न्यूज़ एजेंसी एएनआई ने बताया था कि गलवान में 43 चीनी सैनिक मारे गए हैं जबकि अमेरिकी खुफिया एजेंसी ने बताया कि 35 चीनी सैनिक मारे गए हैं, लेकिन चीन सच्चाई सुनने को तैयार नहीं है।

Sponsored Articles
loading...