बाबा रामदेव ने कहा- क्या सिर्फ कोट-टाई वाले रिसर्च करेंगे? भगवा वाले नहीं कर सकते क्या?

नई दिल्ली, 1 जून: पतंजलि की आयुर्वेदिक दवा “कोरोनिल” पर उठ रहे सवालों को लेकर बाबा रामदेव और आचार्य बालकृष्ण ने हरिद्वार में प्रेस-कॉन्फ्रेंस किया और सभी सवालों का जवाब दिया। साथ ही विरोधियों पर जोरदार हमला भी बोला।प्रेस-कॉन्फ्रेंस करते हुए बाबा रामदेव ने कहा कि कोरोनिल के क्लीनिकल ट्रायल का डेटा हमने आयुष मंत्रालय को भेजा, आयुष मंत्रालय के सारे अप्रूवल लिये गये। हमने सभी पैरमीटर फॉलो किये। एफआईआर करो, देशद्रोही कह लो या जो चाहे कह लो कोई फर्क नहीं पड़ता।

बाबा ने आगे कहा कि ऐसा लगता है कि हिन्दुस्तान के अंदर योग आयुर्वेद का काम करना एक गुनाह हो और सैकड़ों जगह एफआईआर दर्ज हो गईं। जैसे किसी देशद्रोही और आतंकवादी के खिलाफ दर्ज होती हैं। उन्होंने कहा कि हिन्दुस्तान में योग के अंदर काम करना गुनाह है। मेरे खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई गई। दवा बनाकर क्या मैंने कोई गुनाह कर दिया, सत्कार नहीं कर सकते तो तिरस्कार तो मत कीजिये। सिर्फ कोट टाई वाले रिसर्च करेंगे क्या, भगवा, धोती वाले नहीं कर सकते।

पतंजलि के निदेशक बाबा रामदेव ने कहा कि अभी तो हमने एक कोरोना के बारे में क्लीनिकल कंट्रोल ट्रायल का डाटा देश के सामने रखा तो एक तूफान सा उठ गया। उन ड्रग माफिया, मल्टीनेशनल कंपनी माफिया, भारतीय और भारतीयता विरोधी ताकतों की जड़ें हिल गईं।

गौरतलब है कि बाबा रामदेव ने कोरोना की आयुर्वेदिक दवा कोरोनिल लांच की थी, जिसपर बवाल मच गया। भारत सरकार के अंतर्गत आने वाले आयुष मंत्रालय ने बाबा की दवा से किनारा कर लिया तो वहीँ कई राज्यों में बाबा के खिलाफ एफआईआर भी दर्ज हो गई।

loading...