बड़ा खुलासा: एनकाउंटर से पहले इस बात को लेकर विकास दुबे और अमर दुबे के बीच हुआ था झगड़ा

कानपुर, 11 जुलाई: आठ पुलिसकर्मियों के हत्यारोपी कुख्यात गैंगस्टर विकास दुबे और उसके राइट हैण्ड अमर दुबे को पुलिस ने एनकाउंटर में ढ़ेर कर दिया, अब विकास दुबे और अमर दुबे को लेकर बड़ा खुलासा हुआ है, जी हाँ! ये खुलासा किया है फरीदाबाद की एक महिला ने जिसके घर विकास और अमर दुबे कानपुर से फरार होंनें के बाद रुके थे।

अमर दुबे को विकास दुबे का राइट हैण्ड माना जाता था लेकिन कानपुर हत्याकांड के बाद पुलिस के एक्शन से दोनों के बीच अनबन शुरू हो गई थी, कानपुर में आठ पुलिसकर्मियों की हत्या करके फरार विकास दुबे 2 दिन तक फरीदाबाद में ही छिपा रहा। इस दौरान विकास दुबे का सबसे करीबी अमर दुबे उसके साथ ही था।

फरीदाबाद में विकास दुबे अपनें एक दूर के रिश्तेदार के घर रुका था वो भी जान से मारनें की धमकी देकर, अब विकास और अमर दुबे के एनकाउंटर के बाद इस घर की महिला ने बड़ा खुलासा किया है। महिला का दावा है कि विकास अमर को अपनें साथ ही ले जाना चाह रहा था। लेकिन अमर विकास के साथ जानें को राजी नहीं था। जिसे लेकर दोनों के बीच झगड़ा हो गया।


फरीदाबाद में जिस घर में दोनों अपराधी छिपे थे उस घर की महिला ने बताया कि अमर की लड़ाई हो गई थी विकास से, महिला ने कहा, विकास दुबे अमर से कह रहा था तुम मेरे साथ चलो लेकिन अमर दुबे साथ जानें से इनकार कर दिया और कहा कि हमारी अभी शादी हुई है, हमारी जिंदगी बर्बाद हो जायेगी, हम जा रहे हैं तुम्हारे साथ नहीं जायेंगें। इसके बाद दोनों में झगड़ा हुआ और दोनों अलग-अलग राह पर निकल पड़े।

अमर दुबे फरीदाबाद से हमीरपुर गया और वहीँ एनकाउंटर में मारा गया जबकि विकास दुबे फरीदाबाद से सीधा उज्जैन महाकाल मंदिर पहुँच गया, जहाँ उज्जैन पुलिस ने गिरफ्तार करके यूपी पुलिस के हवाले कर दिया। यूपी एसटीएफ विकास दुबे को उज्जैन से कानपुर ला रही थी तभी कानपुर से 30 किलोमीटर भौंती में रोड पर अचानक पशुओं के आ जानें से गाड़ी पलट गई।

मौके का फायदा उठाकर विकास दुबे ने पुलिस की पिस्टल छीन ली और फायरिंग करके भागनें की कोशिश की, पुलिस सरेंडर करनें को कह रही थी परन्तु विकास दुबे फायरिंग करनें पर अमादा इसके बाद आत्मरक्षा में पुलिस ने गोली चलाई और विकास दुबे घायल हो गया, हैलट अस्पताल में मौत हो गई।

बता दें कि बीते 29 जून को अमर दुबे की शादी हुई थी, 2 जुलाई को कानपुर में हुई जघन्य वारदात में शामिल हुआ और 8 जुलाई को एनकाउंटर में मारा गया, इस तरह से अमर दुबे का विवाहित जीवन मात्र 9 दिनों का रहा।