पीएम मोदी का भूमिपूजन में शामिल होना सेकुलरिज्म के खिलाफ, मैं नहीं भूलूंगा बाबरी: ओवैसी

5 अगस्त को अयोध्या में राममंदिर का भूमिपूजन होगा, इस भूमिपूजन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी शामिल होंगें, हैदराबाद के सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने पीएम मोदी के भूमिपूजन में शामिल होनें का विरोध किया है और इसे सेकुलरिज्म के खिलाफ बताया है। साथ ही ओवैसी ने कहा है कि हम बाबरी को नहीं भूलेंगे। इससे पहले सीपीआई नेता डी राजा प्रधानमंत्री के अयोध्या दौरे पर सवाल उठा चुके हैं।

AIMIM के अध्यक्ष और हैदराबाद के सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने अपनें ट्वीट में लिखा है, ‘पीएमओ द्वारा भूमि पूजन में शामिल होना संवैधानिक शपथ का उल्लंघन होगा। धर्मनिरपेक्षता संविधान की मूल संरचना का हिस्सा है। हम यह नहीं भूल सकते कि बाबरी 400 साल से अधिक समय तक अयोध्या में रही और 1992 में आपराधिक भीड़ द्वारा इसे ध्वस्त कर दिया गया।

असदुद्दीन ओवैसी के बयान पर अखिल भारत हिंदू महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष स्वामी चक्रपाणि ने तीखा हमला बोला है। उन्होंने कहा है कि ओवैसी को इस बयान के लिए माफी मांगनी चाहिए। उन्होंने कहा, उनका ये बयान हिंदू सनातन धर्मी राम भक्तों की भावनाओं को ठेस पहुंचाने वाला है।

आपको बता दें कि अयोध्या में 5 अगस्त को राम मंदिर भूमिपूजन का कार्यक्रम होगा और इसका लाइव प्रसारण दूरदर्शन करेगा। इस कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत देश की 200 मानी-जानी हस्तियां शामिल होंगीं, पीएम मोदी राम मंदिर की पहली ईंट रखेंगें।