दिल्ली दंगा: कांस्टेबल रतनलाल की ह’त्या के मामले में चार्जशीट में योगेंद्र यादव का भी नाम

नई दिल्ली, 21 जून: नागरिकता संसोधन कानून ( CAA ) के विरोध में उत्तर पूर्वी दिल्ली में दंगे हुए थे, इस दंगे में दिल्ली पुलिस के हेड कॉन्स्टेबल रतन लाल की ह्त्या कर दी गई थी जबकि आईपीएस अमित शर्मा और अनुज कुमार पर जानलेवा हमला किया था। रतनलाल ह्त्या मामलें में अब चार्जशीट में योगेंद्र यादव का भी नाम आया है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, स्वराज इण्डिया के अध्यक्ष योगेंद्र यादव का नाम हेड कॉन्स्टेबल रतनलाल की ह्त्या के मामलें में दिल्ली पुलिस द्वारा दाखिल की गई चार्जशीट में शामिल किया गया है, हालाँकि योगेंद्र का नाम 17 आरोपियों की लिस्ट से बाहर है।

जनसत्ता के मुताबिक़, चार्जशीट में कहा गया है कि (चांद बाग) धरना प्रदर्शन के आयोजकों के लिंक डीएस बिंद्रा, कंवलप्रीत कौर, देवेंद्र कालिता, सफूरा, योगेन्द्र यादव आदि के साथ थे, जो कि साफ इशारा करते हैं कि हिंसा के पीछे कोई छिपा हुआ एजेंडा था। दिल्ली पुलिस के चार्जशीट के मुताबिक, 24 फरवरी 2020 को उत्तर-पूर्वी दिल्ली में दंगे हुए, जिनमें 750 से ज्यादा मामले दर्ज किए गए। दंगों के दौरान 53 लोगों को जान गई, जिनमें दिल्ली पुलिस के हेड कॉन्सटेबल रतन लाल भी शामिल हैं।

दिल्ली पुलिस की चार्जशीट में कहा गया है कि रतन लाल और कुछ अन्य पुलिसकर्मी चांदबाग के धरना स्थल पर मौजूद थे। इसी दौरान उन पर भीड़ ने हमला कर दिया। रतन लाल वजीराबाद रोड पर स्थित डिवाइडर को कूदकर पार नहीं कर सके और गोली लगने और पत्थर लगने से वहीं गिर पड़े। रतन लाल को लाठी-डंडों से भी पीटा गया। उन्हें जीटीबी अस्पताल ले जाया गया, जहां उन्हें मृत घोषित कर दिया गया।

Sponsored Articles
loading...