370 ख़त्म होते ही टूटनें लगे कश्मीरी अलगाववादी, सैयद शाह गिलानी ने छोड़ी हुर्रियत

जम्मू कश्मीर, 29 जून: जबसे जम्मू कश्मीर से धारा 370 हटी है तबसे नए-नए बदलाव देखनें को मिल रहे हैं, अभी हाल ही में बिहार के एक निवासी को जम्मू कश्मीर की नागरिकता मिली और अब खबर आ रही है अलगाववादी नेता सैयद शाह गिलानी ने हुर्रियत कॉन्फ्रेंस छोड़ दी है।

बता दें कि – सैयद शाह गिलानी पिछले तीन दशक से कश्मीर में देशविरोधी गतिविधियों को अंजाम दे रहे थे, अपनें बच्चों को लंदन में पढ़वाते थे और आम कश्मीरियों को कुछ रूपये देकर सेना पर पत्थरबाजी करवाते थे, ये इन अलगाववदियों का मुख्य धंधा था। मोदी सरकार द्वारा 370 हटाए जानें के बाद अलगाववादियों के सारे धंधे बंद हो गएँ।

370 ख़त्म होनें का सबसे बड़ा असर यह है कि अलगाववादियों को विदेश से जो फंडिंग मिलती थी वो बंद हो गई। जिसके बाद अब अलगाववादी नेता टूटनें लगे हैं। ताजा जानकारी के मुताबिक़, सैयद अली शाह गिलानी ने कश्मीर में सबसे बड़े अलगाववादी संगठन हुर्रियत कॉन्फ्रेंस का साथ छोड़ दिया है।

हुर्रियत कॉन्फ्रेंस कश्मीर का सबसे बड़ा कथित अलगवावादी संगठन है। सैयद अली शाह गिलानी आजीवन इसके अध्यक्ष रहे, इस संगठन का मुख्य आम कश्मीरी युवाओं को भारतीय सेना के खिलाफ भड़काना था। लेकिन अब सब धीरे-धीरे लाइन पर आ रहे हैं।

loading...