सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली सरकार को लगाई फटकार, कहा- अस्पतालों में बेड नहीं, शव कूड़े में मिल रहे है

नई दिल्ली, 12 जून: देशभर में कोरोना वायरस का प्रकोप जारी है। देश में सबसे ज्यादा महाराष्ट्र, तमिलनाडु और दिल्ली कोरोना से प्रभावित हैं। दिल्ली में रोजाना 1 हजार से ज्यादा कोरोना वायरस के मामलें आ रहे हैं। ये दर्शाता है की दिल्ली में स्वास्थ्य सेवाओं के हालात ठीक नहीं है, इसको लेकर सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली सरकार को कड़ी फटकार लगाई है। सर्वोच्च अदालत ने कहा की, मुंबई और चेन्नई के मुकाबलें दिल्ली में कोरोना टेस्टिंग कम क्यों की जा रही है।

बता दें की, सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली में कोरोना मरीजों की मौत के बाद उनके रखरखाव को लेकर दिल्ली की केजरीवाल सरकार पर तल्ख़ टिप्पणी की, SC ने कहा की, गृहमंत्रालय की गाइडलाइन का अनुपालन नहीं हो रहा है, अस्पतालों का बुराहाल है, अस्पताल में डेड बॉडी का सहित तरह से रखरखाव नहीं किया जा रहा है। कोरोना टेस्टिंग कम कर दी गई है।

इसके अलावा सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई के दौरान कहा की, कोरोना मरीजों की मौत के बाद उनके परिजनों को भी इसकी सूचना नहीं दी जा रही है। ऐसे ऐसे कई मामलें संज्ञान में आये हैं की परिजन अपनों की मौत के बाद उनके अंतिम संस्कार में शामिल नहीं पाए, क्योंकि सरकार ने उन्हें सूचना देनें की जहमत ही नहीं उठाई। सुप्रीम कोर्ट ने इन मामलों में दिल्ली सरकार को जवाब दाखिल करनें का आदेश दिया है।

इसके साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे वीडियो, जिसमें लोग विलख रहे हैं, रो रहे हैं उनपर भी संज्ञान लेते हुए दिल्ली सरकार को फटकार लगाया है। साथ ही एलएनजेपी हॉस्पिटल की स्थिति पर संज्ञान लेते हुए उसे जवाब दाखिल करनें के लिए कहा है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा की, दिल्ली में इस समय स्थिति भयावह और डरावनी है, पूरे अस्पताल में शव इधर-इधर पड़े हैं। शवों के बीच में मरीजों का ईलाज चल रहा है।

बता दें की, दिल्ली के एलएनजेपी हॉस्पिटल की एक वीडियो वायरल हुआ था, जिसमें शव काफी समय से जमीन पर पड़ा हुआ दिखाई दिया था। इसके बाद ये मामला सुप्रीम कोर्ट में गया था।

दिल्ली सरकार पर सुप्रीम कोर्ट की तल्ख टिप्पणी के बाद भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा ने कहा की, सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली सरकार को फटकार लगाया ..COVID टेस्टिंग क्यों कम किया गया दिल्ली में ..अस्पतालों में bed नहीं ..कूड़े में शव मिल रहें है ..सुप्रीम कोर्ट ने अरविंद केजरीवाल के असफलता पर कड़ी फटकार लगाई। दिल्ली का सच आज हम सब के सामने है।