गरीब-जरूरतमंदों की मदद कर रहे सोनू सूद को कांग्रेसी बाबा ने बताया भाजपा का एजेंट

कोरोना वायरस के कारण देश में लॉकडाउन लगनें के बाद से ही बॉलीवुड एक्टर सोनू सूद पूरे तन-मन और धन के साथ प्रवासी मजदूरों एवं अन्य जरूरतमंदों की मदद करनें में जुट गए। सोशल मीडिया हो या अख़बार की सुर्खियां हर जगह सोनू सूद ही छाये हैं।

हालाँकि सोनू सूद अब सोनू सूद द्वारा की जा रही सेवा पर सियासत शुरू हो गई है, शिवसेना के बाद कांग्रेस नेता और हिन्दू धर्मगुरु आचार्य प्रमोद कृष्णम ने एक्टर सोनू सूद को भाजपा का एजेंट बताया है।

2019 लोकसभा चुनाव में कांग्रेस की टिकट पर लखनऊ से चुनाव लड़कर हारने वाले कांग्रेस नेता आचार्य प्रमोद कृष्णम ने ट्वीट कर कहा की, सोनू सूद को “2024”का प्रधान मंत्री का कैंडिडेट बना देना चाहिये,क्यूँ कि “भाजपा” में उनसे ज़्यादा “दयालु” महापुरुष और कोई नहीं है।

गौरतलब है की इससे पहले शिवसेना नेता संजय राउत ने सोनू सूद की आलोचना करते हुए कहा की, लॉकडाउन के दौरान अचानक सोनू सूद नाम का एक महात्मा तैयार हो गया है, इतने झटके और चतुराई के साथ किसी को महात्मा बनाया जा सकता है। राउत ने लिखा कहा की, बीजेपी के नेताओ ने सोनू सूद को प्यादा बनाकर ठाकरे सरकार को नाकाम दिखाने की कोशिश की है।

गौरतलब है की सोनू सूद अपनें निजी खर्चे से प्रवासी मजदूरों को मुंबई से उनके घर पहुंचा रहे हैं। अबतक कई हजार मजदूरों को सोनू सूद उनके गंतव्य तक पहुंचा चुका है। सोशल मीडिया हो या अख़बार की सुर्खियां हर जगह सोनू सूद ही छाये हैं। महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोशियारी खुद सोनू सूद की तारीफ कर चुके हैं। हालाँकि ये सब शिवसेना को बिल्कुल पसंद नहीं आ रहा है।