राजीव गांधी फाउंडेशन को चीन ने दिए पैसे तो कांग्रेस के बचाव में उतरी शिवसेना, BJP पर बोला हमला

मुंबई, 27 जून: भारत चीन के बीच चल रही तनातनी के बीच चीन और कांग्रेस के संबंधों पर सवाल उठ रहे हैं, भाजपा कांग्रेस पर जमकर हमला कर रही है वहीँ अब कांग्रेस का बचाव करनें शिवसेना मैदान में आ गई है. शिवसेना ने कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी और राहुल गांधी का बचाव किया है।

शिवसेना ने अपने मुखपत्र सामना के संपादकीय में लिखा है कि विदेश से कई पार्टियों ने पैसे लिए हैं। ऐसे में ये कोई नहीं कह सकता कि वो दूध का धुला है. राजीव गांधी फाउंडेशन को चीनी राजदूत की तरफ से दान में जो पैसे मिले, उसका खुलासा करने से क्या चीन अपनी सेना वापस ले लेगा. शिवसेना ने सामना में चीन की चालबाजी और पीएम मोदी की नीति पर भी सवाल उठाए।

सामना में लिखा गया कि चीन पीछे हट गया है और दोनों देशों के सैन्य कमांडरों के बीच बातचीत के बाद तनाव कम हो गया है. अब इस झूठ का पर्दाफाश हो चुका है। लद्दाख और चीन के बीच सीमा पर तनाव के दौरान चीन लगातार ऐसे कदम उठा रहा है, जिससे हिंदुस्तान का सिरदर्द बढ़े। कहना कुछ और करना कुछ मानो ये चीन की राष्ट्रीय नीति हो। चीन युद्ध नहीं चाहता लेकिन उसकी नीति सीमा पर युद्ध जैसे हालात पैदा करके हिंदुस्तान को उलझाए रखने वाली है।

बता दें कि भाजपा के वरिष्ठ नेता और केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने खुलासा किया कि राजीव गांधी फाउंडेशन को चीन ने पैसे दिए , कांग्रेस ये बताए कि ये प्रेम कैसे बढ़ गया, इनके कार्यकाल में ही चीन ने हमारी जमीन पर कब्जा किया। एक कानून है जिसके तहत कोई भी पार्टी बिना सरकार की अनुमति के विदेश से पैसा नहीं ले सकती. कांग्रेस स्पष्ट करे कि इस डोनेशन के लिए क्या सरकार से मंजूरी ली गई थी।

उन्होंने कहा कि राजीव गांधी फाउंडेशन के लिए डोनर की सूची है 2005-06 की. इसमें चीन के एम्बेसी ने डोनेट किया ऐसा साफ लिखा है। ऐसा क्यों हुआ? क्या जरूरत पड़ी? इसमें कई उद्योगपतियों,पीएसयू का भी नाम है। क्या ये काफी नहीं था कि चीन एम्बेसी से भी रिश्वत लेनी पड़ी। राजीव गांधी फाउंडेशन को चीन से 90 लाख रूपये दान मिले।

loading...