ना मेरा बाप किसी से डरता था, ना मैं किसी से डरती हूँ, ह’त्या’रों की गर्दन हाथ में पकड़कर तोडूंगी

अनंतनाग, 10 जून: दक्षिण कश्मीर के अनंतनाग में सोमवार ( 8 जून 2020 ) को कश्मीरी पंडित अजय भारती की आतंकियों ने गोली मारकर ह्त्या कर दी, इस वारदात को जिहादी संगठन द रजिस्ट्रेशन फ्रंट ( टीआरएफ ) ने अंजाम दिया था। अजय पंडित वहां एकमात्र हिन्दू सरपंच थे, जो आतंकियों से नहीं देखा गया।

पिता की ह्त्या के बाद स्व. अजय पंडिता की बेटी शीन पंडिता ने आक्रोश व्यक्त करते हुए कहा है, ना मेरा बाप किसी से डरता था, ना मैं किसी से डरती हूँ, पापा के हत्यारों को जिन्दा नहीं छोडूंगी। एक गोली तो मारकर रहूंगी। बता दें की, अजय पंडिता के परिवार में उनके माता-पिता और उनकी दो बेटियां-थी।

एक निजी मीडिया चैनल से बात करते हुए स्व. अजय पंडिता की बेटी ने हत्यारों को चेतावनी देते हुए कहा की, तुझे क्या लगता है, तूने अजय भारती को मारा है। उनका शेर अभी जिंदा है। जिंदा नहीं छो’ड़ूँगी तुम्हें, एक गोली तो मा’रुँगी मैं उसे, सिर्फ एक गोली जाएगी मेरी तरफ से उसे। मेरे पापा मुझे शेरा बुलाते थे और मैं हूँ वो। मैं किसी से नहीं डरती। सामने बोल रही हूँ कि जिसने भी मेरे पापा के साथ ऐसा किया है, उसकी गर्दन हाथ में पकड़कर ऐसे तोड़ूँगी न कि उसकी रुह तक काँपनी चाहिए। शीन पंडिता ने आगे कहा की, जिसनें भी मेरे पापा की ह्त्या की है वो सामने आ जाए बोटी-बोटी काट दूँगी मैं उसकी।

बता दें की, मृतक अजय पंडिता तकरीबन 6 बजे किसी काम से अपनें घर से बाहर निकलें थे इसी दौरान आतंकी आये और हत्या करके फरार हो गए। इसके बाद अजय पंडित को अस्पताल ले जाया गया जहाँ उन्हें मृत घोषित कर दिया गया। इस वारदात को जिहादी संगठन द रजिस्ट्रेशन फ्रंट ( टीआरएफ ) ने अंजाम दिया है, टीआरएफ कश्मीर में आतंक का नया पर्याय बन चुका है, जम्मू कश्मीर पुलिस ने आतंकियों को पकड़ने के लिए पूरे इलाके की घेराबंदी करके तलाशी अभियान चला दिया है।

loading...