गुड़ न्यूज़: वैज्ञानिकों को मिली बड़ी कामयाबी, अब इसकी मदद से ख़त्म होगा कोरोना वायरस

नई दिल्ली, 1 जून: चीन के वुहान शहर से फैला कोरोना वायरस देश-दुनिया में जमकर कहर मचा रहा है। इस जानलेवा वायरस से न सिर्फ लोगों की मौत हो रही है बल्कि अर्थव्यवस्था को भी तगड़ा झटका लग रहा है, इन सब के बीच वैज्ञानिकों को कोरोना के खात्में की बड़ी जानकारी प्राप्त हुई है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, वैज्ञानिकों ने एक स्टडी के जरिये दिखाया है की कोरोना वायरस को विटामिन रिबोफ्लेविन और पैराबैंगनी किरणों के सम्पर्क में लाया जाय तो ये मानव प्लाज्मा और रक्त उत्पादों में वायरस की मात्रा को कम करते हैं। वैज्ञानिकों का कहना है की, यह एक ऐसी उपलब्धि है जिससे खून चढ़ाये जानें के दौरान वायरस के फैलनें की आशंका को घटाने में सहायता मिलेगी।

वहीँ अमेरिका की कोलोराडो स्टेट यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों का कहना है की, COVID-19 के लिए जिम्मेदार कोरोना वायरस या सार्स-CoV-2 खून चढ़ाए जाने से फैलता है या नहीं। यह अभी स्टडी में पता नहीं चल पाया है।

इसके अलावा स्टडी में वैज्ञानिकों ने प्लाज्मा के 9 और 3 रक्त उत्पादों के उपचार के लिए मिरासोल रिडक्शन टेक्नोलॉजी सिस्टम नामक एक उपकरण तैयार किया है, स्टडी की सह-लेखिका इजाबेला रगान ने कहा, हमने वायरस की बड़ी मात्रा को घटाया और इलाज के बाद हमें वायरस नहीं मिला।

ध्यान रहे की कोरोना वायरस की वैक्सीन ढूढनें के लिए दुनिया का हर विकसित देश कार्य कर रहा है परन्तु अभी किसी को सफलता नहीं मिल पाई है। कुछ दिन पहले इजरायल ने वैक्सीन बनानें का दावा किया था। लेकिन इसके इजराइल ने कुछ भी जानकारी नहीं दी की वैक्सीन सफल हुई या नहीं। इसी तरह नीदरलैंड ने भी दावा किया था लेकिन यह नहीं बताया की मानव पर परिक्षण किया गया या नहीं।

loading...