महंगी पड़ी भारत से दुश्मनी: गिर सकती है नेपाल सरकार, कम्युनिस्ट पार्टी ने दिए संकेत

काठमांडू, 25 जून: चीन के इशारे पर काम करके नेपाली सरकार ने भारत से अपनें रिश्ते बिगाड़ने की शुरुवात की, नेपाली सरकार को अब ये फैसला बहुत भारी पड़ने जा रहा है, इसके संकेत नेपाल की सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी ने दे दिए हैं।

नेपाल की सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी के अध्यक्ष पुष्पा कमल दहल ‘प्रचंड’ ने चेतावनी दी है कि अराजकता की मौजूदा स्थिति बनी रही तो पार्टी बिखर सकती है। प्रचंड का कहना है कि वह सरकार के काम से खुश नहीं हैं और पार्टी का काम सही तरीके से आगे नहीं बढ़ पा रहा है, इसके अलावा प्रचंड ने प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओळी का इस्तीफ़ा माँगा है।

काठमांडू में बुधवार को पीएम के सरकारी आवास पर आयोजित स्थायी समिति की बैठक में बोलते हुए अध्यक्ष प्रचंड ने कहा कि पार्टी व्यवस्थित तरीके से काम नहीं कर रही है। उन्होंने कहा, पार्टी और सरकार दोनों में एक ही व्यक्ति का प्रभुत्व बढ़ा है और वो है केपी ओली।

बता दें कि – हाल ही में नेपाल सरकार ने नक़्शे में संसोधन किया, भारत के कुछ इलाकों को अपने नक़्शे में शामिल कर लिया। इसके बाद सीतामढ़ी में बॉर्डर पर नेपाल की पुलिस ने भारतीय लोगों पर अंधाधुंध फायरिंग की, इसके बाद भारत और नेपाल के रिश्ते में खटास पड़नी शुरू हो गई। जानकारों का मानना है कि भारत के खिलाफ नेपाल सरकार ये सब चीन के इशारे पर कर रही है।

loading...