भारत-चीन विवाद पर मनमोहन ने तोड़ा मौन तो भड़के पूर्व BJP सांसद, कहा- जब बोलना था तब चुप रहे

नई दिल्ली, 22 जून: भारत और चीन के बीच लाइन एक्चुअल कंट्रोल ( LAC ) पर चल रही तनातनी को लेकर अब पूर्व प्रधानमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता डॉ मनमोहन सिंह ने भी चुप्पी तोड़ते हुए कहा कि पिछलग्गू सहयोगियों द्वारा प्रचारित झूठ के आडंबर से सच्चाई को नहीं दबाया जा सकता…पूर्व प्रधानमंत्री के इस बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए पूर्व भाजपा सांसद हरि मांझी ने कहा कि जब बोलना था तब चुप थे और अब बोल रहे हैं।

बिहार के गया से पूर्व भाजपा सांसद और दलित नेता हरी मांझी ने अपनें ट्वीट में लिखा – डॉक्टर मनमोहन सिंह जी को जब बोलना था तब तो चुप रहे हैं। जब चुप रहकर मौन समर्थन देना चाहिए तब बोल रहे हैं। एक अन्य ट्वीट में पूर्व भाजपा सांसद ने राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए लिखा – क्या आपको पता है चीन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की website ब्लॉक कर दिया वहीं राहुल गांधी का नहीं किया, पाकिस्तान में भी मोदी विरोध का सुर बुलंद होता है वहीं कांग्रेस की सरकार आए ऐसी इच्छा कई बार बोल चुका है। आख़िर दुश्मन देश को मोदी जी से नफ़रत और राहुल बाबा से प्यार।

 

बता दें कि – भारत-चीन पर पूर्व प्रधानमंत्री और वरिष्ठ कांग्रेस नेता डॉ मनमोहन सिंह ने एक बयान जारी कर कहा कि हम सरकार को आगाह करेंगे कि भ्रामक प्रचार कभी भी कूटनीति तथा मजबूत नेतृत्व का विकल्प नहीं हो सकता। पिछलग्गू सहयोगियों द्वारा प्रचारित झूठ के आडंबर से सच्चाई को नहीं दबाया जा सकता…प्रधानमंत्री को अपने शब्दों व ऐलानों द्वारा देश की सुरक्षा एवं सामरिक व भूभागीय हितों पर पड़ने वाले प्रभाव के प्रति सदैव बेहद सावधान होना चाहिए।

पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह के बयान को साझा करते हुए कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने ट्वीट में लिखा, भारत की भलाई के लिए पूर्व प्रधानमंत्री ने महत्वपूर्ण सलाह दी है मैं आशा करता हूँ कि PM उनकी बात को विनम्रता से मानेंगे।