कोरोना के कारण इस बार सावन में सड़कों पर नहीं गूंजेंगें ‘बोल बम’ के नारे, कांवड़ यात्रा निरस्त

वैश्विक महामारी कोरोना वायरस पिछले कई महीनों से देश-दुनिया में कहर बरपा रही है। थमनें का नाम नहीं ले रही है। कोरोना का असर अब कांवड़ यात्रा पर भी पड़ा है। इस बार सावन में सड़कों पर हर-हर महादेव, बोल बम आदि नारे नहीं गूंजेंगें।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत और हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने आज ( 20 जून 2020 ) शाम को कांवड़ यात्रा के संबंध में वीडियो कॉन्‍फ्रेंसिंग के जरिए विचार-विमर्श किया। इस बैठक के बाद तीनों राज्यों के मुख्यमंत्रियों के बीच इस वर्ष कांवड़ यात्रा स्थगित करने की सामूहिक सहमति बनी।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में बताया गया कि राज्यों को कांवड़ संघों और संत महात्माओं की ओर से भी यही प्रस्ताव प्राप्त हुआ है। बैठक में तीनों राज्यों के वरिष्ठ अधिकारी भी उपस्थित थे।

मुख्यमंत्रियों की इस चर्चा में तय हुआ कि कोरोना संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए यह बहुत जरूरी है कि लोगों की भीड़ इकट्ठी न होने पाए। हालांकि शिव भक्त स्थानीय स्तर पर निर्धारित गाइडलाइंस का पालन करते हुए लोग जलाभिषेक कर सकते हैं। जल्द ही कांवड़ यात्रा को लेकर अन्य राज्यों के मुख्यमंत्री भी चर्चा कर सकते हैं।

Sponsored Articles
loading...