बयानबाजी में व्यस्त है केजरीवाल सरकार, न टेस्टिंग बढ़ा रही, न सही आंकड़े दे रही है: आदेश गुप्ता

नई दिल्ली, 12 जून: कोरोना वायरस  प्रकोप बढ़ता जा रहा है, सबसे ज्यादा महाराष्ट्र, तमिलनाडु और दिल्ली कोरोना से प्रभावित हैं, दिल्ली में रोजाना 1 हजार से ज्यादा कोरोना वायरस के मामलें आ रहे हैं। ये दर्शाता है की दिल्ली में स्वास्थ्य सेवाओं के हालात ठीक नहीं है, इसको लेकर सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली सरकार को कड़ी फटकार लगाई है।

दिल्ली की खराब स्वास्थ्य सेवाओं को लेकर अब भाजपा अध्यक्ष आदेश कुमार गुप्ता ने केजरीवाल सरकार पर निशाना साधा है। साथ ही सही कोरोना मरीजों, मौतों के सही आंकड़े न देने का आरोप लगाया है।

दिल्ली भाजपा अध्यक्ष आदेश कुमार गुप्ता ने कहा की, दिल्ली भाजपा ने दिल्ली सरकार से कोरोना की टेस्टिंग बढ़ाने, सही आंकड़े पेश करने, बेड की संख्या बढ़ाने, ऐप को दुरुस्त करने की मांग रखी, लेकिन दिल्ली सरकार राजनीति और बयानबाजी में व्यस्त है। गुप्ता ने कहा कि, दिल्ली के 78 प्रतिशत कोरोना संक्रमित मरीज होम क्वारंटीन में हैं, सोशल मीडिया पर दिल्ली सरकार की बदइंतजामी और अंधेर गर्दी के तमाम सुबूत वायरल हो रहे हैं।

दिल्ली भाजपा अध्यक्ष ने आगे कहा की, कोरोना संक्रमण के मामले बढ़ रहे हैं लेकिन टेस्टिंग कम की जा रही है। हम मांग कर रहे हैं की दिल्ली सरकार टेस्टिंग बढ़ानें पर ध्यान दे।

बता दें की, सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली में कोरोना मरीजों की मौत के बाद उनके रखरखाव को लेकर दिल्ली की केजरीवाल सरकार पर तल्ख़ टिप्पणी की, SC ने कहा की, गृहमंत्रालय की गाइडलाइन का अनुपालन नहीं हो रहा है, अस्पतालों का बुराहाल है, अस्पताल में डेड बॉडी का सहित तरह से रखरखाव नहीं किया जा रहा है। कोरोना टेस्टिंग कम कर दी गई है।

इसके अलावा सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई के दौरान कहा की, कोरोना मरीजों की मौत के बाद उनके परिजनों को भी इसकी सूचना नहीं दी जा रही है। ऐसे ऐसे कई मामलें संज्ञान में आये हैं की परिजन अपनों की मौत के बाद उनके अंतिम संस्कार में शामिल नहीं पाए, क्योंकि सरकार ने उन्हें सूचना देनें की जहमत ही नहीं उठाई। सुप्रीम कोर्ट ने इन मामलों में दिल्ली सरकार को जवाब दाखिल करनें का आदेश दिया है।

Sponsored Articles
loading...