कोविड़ केयर सेंटर के लिए जमीन राधा स्वामी ब्यास ने दी, बेड डोनेशन से आये, क्रेडिट केजरीवाल ले रहे हैं

नई दिल्ली, 27 जून: कोरोना वायरस दिल्ली में विकराल रूप धारण कर चुका है, रोजाना 2 से ढाई हजार कोरोना के नए मामलें सामनें आ रहे हैं, कोरोना के मामलों में दिल्ली मुंबई से भी आगे निकल चुकी है। केजरीवाल सरकार पूरी तरह कोरोना को रोकनें में नाकाम दिखाई दे रही है. मजबूरन दिल्ली में बढ़ते कोरोना संक्रमण पर लगाम लगानें के लिए केंद्र सरकार को कमान संभालनी पड़ी।

दिल्ली में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को देखते हुए शुक्रवार से दिल्ली के छतरपुर में 10000 बेड का नया कोविड-केयर सेंटर शुरू हो गया। इस कोविड-केयर सेंटर के संचालन का जिम्मा इंडो-तिब्बत सीमा पुलिस यानी आईटीबीपी (ITBP) को दिया गया है। इस कोविड-केयर सेंटर में अभी तक केजरीवाल सरकार का कोई रोल नहीं दिखाई दिया लेकिन बनने के बाद केजरीवाल सरकार ने क्रेडिट लेना शुरू कर दिया है।

आम आदमी पार्टी के तमाम नेता पोस्टर, बैनर छपवाकर मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल को 10000 बेड का नया कोविड-केयर सेंटर बनानें के लिए बधाई दे रहे हैं। आप नेता संजय सिंह ने अपनें ट्वीट में लिखा, लौह पुरुष सरदार बल्लभ भाई पटेल की स्मृति में केजरीवाल सरकार ने बनवाया दुनिया का सबसे बड़ा कोविड अस्पताल, भाजपाईयों ने बनवाई मूर्ति केजरीवाल ने बनवाया अस्पताल।

जानकारी के अनुसार, 10000 बेड का नया कोविड-केयर सेंटर बनानें के लिए जमीन राधा स्वामी सत्संग ब्यास ने दी है। कोविड-केयर सेंटर के संचालन का जिम्मा गृहमंत्रालय ने आईटीबीपी को दी, फर्श भारतीय रेलवे ने बनवाया, सभी स्वयंसेवी संस्थाओं ने डोनेट किया है। अतः केजरीवाल सरकार ने इस कोविड-केयर सेंटर में रत्ती भर का योगदान नहीं दिया है लेकिन क्रेडिट लेनें के लिए सबसे आगे खड़ी हुयी दिखाई दे रही है।

loading...