केजरीवाल की खुली पोल, दिल्ली में नहीं हुआ ईलाज तो दिल्ली के 4 कोरोना मरीज ईलाज कराने गए दूसरे राज्य

नई दिल्ली, 14 जून: कोरोना वायरस का प्रकोप जारी है, सबसे ज्यादा महाराष्ट्र, तमिलनाडु और दिल्ली कोरोना से प्रभावित है, दिल्ली में तो दिन-प्रतिदिन हालात भयावह होते जा रहे हैं, कुछ दिन पहले दिल्ली के मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी के मुखिया अरविन्द केजरीवाल दिल्ली की स्वास्थ्य व्यवस्था को देश की नंबर-1 स्वास्थ्य व्यवस्था बतानें का डंका पीट रहे थे, कहते थे चिंता करनें की कोई बात नहीं है, हमारे पास सभी व्यवस्था है, कोरोना संकट में केजरीवाल के स्वास्थ्य व्यवस्थाओं की पोल खुल गई, दिल्ली की ये दुर्दशा हो गई है की अब दिल्ली वाले दूसरे राज्यों में अपना ईलाज करानें को मजबूर हैं.

न्यूज़ एजेंसी प्रेस ट्रस्ट ऑफ़ इंडिया ( पीटीआई ) के मुताबिक़, दिल्ली में ईलाज न मिलनें के बाद दिल्ली के रहने वाले 4 कोरोना पॉजिटिव लोग अपना ईलाज करानें के लिए पंजाब गए।

एक अधिकारी के हवाले से पीटीआई ने अपनें ट्वीट में लिखा है की, दिल्ली में चिकित्सा सुविधाओं तक पहुंचने में कथित रूप से समस्याओं का सामना करने के बाद दिल्ली के 4 कोरोना पॉजिटिव लोग अपना ईलाज कराने के लिए पंजाब गए और वहां पटियाला और मोहाली के अस्पतालों में भर्ती हैं।

बता दें कि, बीते रविवार को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने कहा था की, दिल्ली के सरकारी और निजी अस्पतालों में अब सिर्फ दिल्ली के निवासियों का ही इलाज होगा। दिल्ली में केंद्र सरकार के जो अस्पताल हैं, उनमें पहले की तरह ही सभी मरीजों का इलाज हो सकेगा। हालाँकि केजरीवाल के इस फैसले को एलजी अनिल बैजल ने पलट दिया।

अब आप सोंचिये अगर केजरीवाल की तरह पंजाब सरकार भी यही सोंचती की पंजाब में सिर्फ पंजाब वालों का ईलाज होगा तो दिल्ली के रहने वाले जो 4 कोरोना पॉजिटिव लोग अपना ईलाज कराने के लिए मोहाली और पटियाला के अस्पतालों में भर्ती हैं, उनका क्या होता।

आपको बता दें कि दिल्ली में अबतक 38,958 लोग कोरोना का शिकार हो चुके हैं जबकि इस खतरनाक महामारी से 1,271 लोगों की मौत हो चुकी है. बताते चलें की, केजरीवाल सरकार पर कोरोना मौत के आंकड़े छुपाने के आरोप भी लग रहे हैं।

loading...