दिल्ली में 3 गुना सस्ता होगा कोरोना का ईलाज, मोदी सरकार का फैसला

नई दिल्ली, 19 जून: कोरोना वायरस का प्रकोप जारी है, महाराष्ट्र, तमिलनाडु और दिल्ली कोरोना वायरस से ज्यादा प्रभावित हैं, इन राज्यों में रोजाना डेढ़ से दो हजार नए कोरोना मरीज आ रहे हैं, राजधानी दिल्ली कोरोना पर लगाम लगानें के लिए मोदी सरकार ने अब अपनें हाथ में कमान संभाल ली है. मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल अभी तक दिल्ली में कोरोना को रोकनें में असफल साबित हुए हैं.

दिल्ली की कमान सम्भालनें केंद्रीय गृह मंत्रालय ऐक्शन में आ गया है। केंद्र ने राज्य में निजी अस्पतालों में कोरोना के इलाज की दरें लगभग तीन गुना कम कर दी है। गृह मंत्री अमित शाह ने नीति आयोग के सदस्य के नेतृत्व में एक आयोग का गठन किया था, जिसे दिल्ली के निजी अस्पातलों में आइसोलेशन बेड, बिना वेंटिलेटर सपोर्ट के साथ ICU और वेंटिलेटर सपोर्ट के ICU में कोरोना के इलाज की दर तय करनी थी। गृह मंत्रालय ने कमिटी की सिफारिश मान ली है।

कमिटी ने पीपीई किट के साथ आइसोलेशन बेड के लिए 8,000-10,000, बिना वेंटिलेटर के साथ ICU बेड का चार्ज 13-15 हजार होगा। जबकि वेंटिलेटर के साथ ICU बेड का चार्ज 15-18 हजार होगा। बता दें कि पहले निजी अस्पतालों में आइसोलेशन बेड का चार्ज 24-25 हजार रुपये था। वहीं ICU बेड का चार्ज 34-43 हजार के बीच था जबकि ICU वेंटिलेटर के साथ 44-54 हजार रुपये था। ये चार्ज पीपीई किट को छोड़कर लगते थे।

दिल्ली में कोरोना मरीजों की संख्या लगभग 50 हजार ( 49,979 ) पहुँच गयी है. वहीँ इस खतरनाक महामारी से 1,969 लोगों की मौत हो चुकी है, दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री और आप नेता सत्येंद्र जैन खुद कोरोना की चपेट में आ गए हैं.

Sponsored Articles
loading...