कांग्रेस का हाथ दंगा’इयों के साथ: सफूरा जरगर को जमानत मिलनें के बाद खुश हुई यूथ कांग्रेस

नई दिल्ली, 24 जून: दिल्ली दंगें की आरोपी और जामिया कोआर्डिनेशन कमेटी की सदस्य सफूरा जरगर को दिल्ली हाईकोर्ट ने जमानत दे दी है, सफूरा तिहाड़ जेल में बंद थी। सफूरा जरगर को जमानत मिलनें के बाद कांग्रेस पार्टी खुश हो गई है, कांग्रेस पार्टी ऐसे जमानतारी का समर्थन कर रही है जिसपर गैरक़ानूनी गतिविधि रोकथाम अधिनियम ( UAPA) जैसा गंभीर एक्ट लगा हो।

यूथ कांग्रेस ने अपनें ऑफिसियल ट्विटर हैंडल से ट्वीट कर लिखा है कि जामिया मिल्लिया की छात्रा सफूरा जरगर को दिल्ली हाईकोर्ट ने दिया जमानत, दिल्ली हाई कोर्ट के निर्णय का हम स्वागत करते हैं। इस ट्वीट के बाद सोशल मीडिया पर कांग्रेस की जमकर भद्दगी हो रही है, एक यूजर ने लिखा, देशद्रोहियों का समर्थन कर देश को दिखा रहे हो अपना चरित्र. एक परिवार की गुलामी से बाहर आने को ज़मीर झंझोड़ता नहीं तुम लोगों को क्या…? जो देश के साथ भी गद्दारी को आतुर हो जाते हो।

बता दें कि, सफूरा जरगर को दिल्ली पुलिस ने 10 अप्रैल को गैरक़ानूनी गतिविधि रोकथाम अधिनियम ( UAPA) के तहत गिरफ्तार किया था। सफूरा जरगर पर इसी साल फ़रवरी में उत्तरी-पूर्वी दिल्ली में हुई साम्प्रदायिक हिंसा में शामिल होनें का और साजिश रचनें का आरोप है। सफूरा जरगर 3 महीनें की प्रेग्नेंट भी है। हालाँकि दिल्ली हाईकोर्ट ने अब सफूरा जरगर को मानवता के आधार पर जमानत दे दी है।

दिल्ली हाईकोर्ट ने सफूरा जरगर को किसी भी गतिविघियों में शामिल न होनें को कहा है, जिससे जांच पर कोई असर पड़े, साथ ही अदालत ने सफूरा जरगर को दिल्ली नहीं छोड़ने का भी आदेश दिया है, अगर सफूरा दिल्ली से बाहर जाना चाहती हैं तो उन्हें इस सम्बन्ध में अदालत से अनुमति लेनी होगी।

Sponsored Articles
loading...