कोरोना के दौरान CM शिवराज ने छात्रहित में लिया बड़ा फैसला, सुनकर खुश हो जायेंगें छात्र

भोपाल, 22 जून: देशभर में कोरोना वायरस पिछले कई महीनों से कहर बरपा रहा है और अभी कोरोना के ख़त्म होनें की कोई उम्मीद भी नहीं दिखाई दे रही है। कोरोना का असर शिक्षा पर भी पड़ा है, कई महीनों से कोरोना के चलते लॉकडाउन के कारण स्कूल-कॉलेज बंद हैं। ऐसे में जो परीक्षाएं बची रह गई है उसको लेकर छात्र चिंतित हैं कि अब ये परीक्षाएं कब होंगी। इसी बीच मध्यप्रदेश की भाजपा सरकार ने छात्रहित में बड़ा फैसला लिया है।

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ऐलान किया कि कोरोना के चलते छात्रों को बिना परीक्षा दिए अगली कक्षा में प्रवेश मिलेगा।

भाजपा के वरिष्ठ नेता और मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अपनें ट्वीट में लिखा, मेरे बच्चों कोरोना वायरस से उत्पन्न विपरीत परिस्थितियों में मैंने आपके हित में कुछ फैसले किये हैं। स्नातक प्रथम एवं द्वितीय वर्ष तथा स्नातकोत्तर द्वितीय सेमेस्टर के परीक्षार्थियों को गत वर्ष/सेमेस्टर या आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर अगली कक्षा या सेमेस्टर में प्रवेश दिया जायेगा।

सीएम शिवराज ने अगले ट्वीट में लिखा, स्नातक अंतिम वर्ष एवं स्नातकोत्तर चतुर्थ सेमेस्टर के परीक्षार्थियों के पूर्व वर्षों/सेमेस्टर्स के सर्वाधिक अंकों के आधार पर अंतिम वर्ष/सेमेस्टर के परीक्षा परिणाम घोषित किये जायेंगे। जो परीक्षा देकर अपने अंकों में सुधार चाहते हैं, वे आगामी घोषित तिथि पर ऑफलाइन परीक्षा दे सकेंगे।

एक अन्य ट्वीट में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने लिखा, मेरे बच्चों, स्कूलों को खोलने के संबंध में 31 जुलाई को समीक्षा कर निर्णय लेंगे। 12वीं कक्षा के ऐसे विद्यार्थी जो किसी कारणवश 12वीं की परीक्षा नहीं दे पाये हैं, उनके लिए एक बार फिर परीक्षा आयोजित होगी। मेरे बच्चों मैं सतत तुम्हारे उज्ज्वल भविष्य के लिए प्रयत्नशील हूं।

Sponsored Articles
loading...