राजीव गांधी फाउंडेशन को चीन ने की थी फंडिंग, केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने किया खुलासा

नई दिल्ली, 25 जून: LAC पर भारत और चीन के बीच तनातनी जारी है, साथ ही इस मुद्दे को लेकर कांग्रेस पार्टी जमकर राजनीति भी कर रही है इन सब के बीच केंद्रीय मंत्री रवि शंकर प्रसाद ने बड़ा खुलासा किया है, केंद्रीय मंत्री ने दावा किया है कि चीन ने राजीव गांधी फाउंडेशन को फंडिंग की है।

भाजपा के वरिष्ठ नेता और केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि राजीव गांधी फाउंडेशन को चीन ने पैसे दिए , कांग्रेस ये बताए कि ये प्रेम कैसे बढ़ गया, इनके कार्यकाल में ही चीन ने हमारी जमीन पर कब्जा किया। एक कानून है जिसके तहत कोई भी पार्टी बिना सरकार की अनुमति के विदेश से पैसा नहीं ले सकती. कांग्रेस स्पष्ट करे कि इस डोनेशन के लिए क्या सरकार से मंजूरी ली गई थी।

उन्होंने कहा कि राजीव गांधी फाउंडेशन के लिए डोनर की सूची है 2005-06 की. इसमें चीन के एम्बेसी ने डोनेट किया ऐसा साफ लिखा है। ऐसा क्यों हुआ? क्या जरूरत पड़ी? इसमें कई उद्योगपतियों,पीएसयू का भी नाम है। क्या ये काफी नहीं था कि चीन एम्बेसी से भी रिश्वत लेनी पड़ी।

कानून मंत्री ने एक और सवाल खड़े करते हुए कहा कि एक कानून है फॉरेन कॉन्ट्रिब्यूशन रेगुलेटरी एक्ट 1976. इसमें धारा चार, पांच, छह और तेईस में कहा गया है कि कोई भी उम्मीदवार विदेश से पैसा नहीं ले सकता. कोई भी राजनीतिक पार्टी विदेश से पैसा नहीं ले सकती. कोई भी राजनीतिक टाइप का संगठन, बिना सरकार के अनुमति के विदेशी फंड नहीं ले सकती. मेरा मानना है कि राजीव गांधी फाउंडेशन एक प्रकार से कांग्रेस का एक्सटेंशन था. क्या उन्होंने चीन से पैसा लेने से पहले केंद्र सरकार की अनुमति ली थी?

बताया जा रहा है कि राजीव गांधी फाउंडेशन के राहुल गांधी,पूर्व प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह और प्रियंका गांधी वाड्रा सदस्य भी हैं, हालाँकि अभी तक कांग्रेस पार्टी का इस मसले पर कोई बयान नहीं आया है।

loading...