कंगना रनौत ने की चाइनीज प्रोडक्ट के बहिष्कार की अपील, कहा- अपनी सेना और सरकार का साथ दें

मुंबई, 27 जून: लद्दाख की गलवान घाटी की घटना के बाद भारत में चाइनीज सामानों के बहिष्कार की मुहिम रफ़्तार पकड़ चुकी है अब चाइनीज प्रोडक्ट के खिलाफ बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत ने भी अपनी आवाज बुलंद की है और देशवासियों से चाइनीज सामानों के बहिष्कार की अपील की है।

बॉलीवुड की दिग्गज अभिनेत्री और पद्मश्री अवॉर्ड विजेता कंगना रनौत ने एक वीडियो जारी कर कहा कि चाइनीज सामान का बहिष्कार करें और अपनी सरकार एवं सेना का साथ दें।

कंगना रनौत ने कहा कि अगर कोई हमारे हाथ से हमारी उंगलियां काटनें की कोशिश करे या भुजाओं से हमारी हथेली काटनें का कष्ट करे तो किस तरह कष्ट होगा आपको, वही कष्ट पहुंचाया है चाइना ने लद्दाख पर अपनी लालची नजरें गड़ा के। कंगना ने कहा, लद्दाख में हमारी सीमा का एक-एक इंच बचाते हुए हमारे 20 जवान शहीद हो गए। “क्या भूल पायेंगें आप उनके माओं के आंसूं, उनकी विधवाओं की चीखें और और उनके बच्चों के दिए बलिदान को, क्या ये सोंचना ठीक है कि सरहदों पर जो युद्ध होता है वो सिर्फ सेनाओं का होता है। वो सिर्फ सरकार का होता है। उसमें हमारा कोई योगदान नहीं है।

बॉलीवुड अभिनेत्री ने आगे कहा कि क्या हम भूल गए वो समय जब गांधी जी ने कहा था अगर अंग्रेजों की रीढ़ तोड़नी है भारत में तो उनके बनाये हुए हर उत्पादन का बहिष्कार करना पड़ेगा। तो क्या जरुरी नहीं है कि हम भी इस युद्ध में हिस्सा लें क्योंकि लद्दाख सिर्फ एक जमीन का टुकड़ा नहीं है बल्कि भारत की अश्मिता का एक बहुत बड़ा हिस्सा है। भारत ही हथेली है हम उसे किसी तरह दुश्मनों के गंदे इरादें में सफल नहीं होने दे सकते, तो क्या हम लोगों को इसमें हिस्सा नहीं लेना चाहिए कि जो चाइनीज जितनी भी उनके प्रोडक्ट हैं, जिस कम्पनी में चाइना ने इन्वेस्ट किया हुआ है उससे उनको रिटर्न्स आते हैं, रेवेन्यू आते हैं, उन सबका बहिष्कार करें ताकि चाइना वाले उस सम्पत्ति से जो इण्डिया से इकट्ठी करके जाते हैं उस सम्पत्ति से हथियार खरीद के हमारे सैनिकों के सीने छलनी करते हैं, तो क्या इस युद्ध में हम चाइना का साथ दे सकते नहीं, नहीं! बिल्कुल नहीं।

बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत ने कहा कि, क्या यह मेरा कर्तव्य नहीं है कि हम अपनी सेना और अपनी सरकार का साथ दें,तो हम यह प्रतिज्ञा लेते हैं कि हम आत्मनिर्भर बनेगें और चाइनीज प्रोडक्ट का बिल्कुल बहिष्कार करेंगें। और इस युद्ध में हिस्सा लेकर भारत को जिताएंगें।

loading...