जौनपुर: समुदाय विशेष के लोगों ने दलितों पर की बर्बबरता, भीम आर्मी के रावण ने RSS को बीच में लाया

जौनपुर, 13 जून: हाल ही में उत्तर प्रदेश के जौनपुर में मामूली सी बात पर समुदाय विशेष के सैकड़ों लोगों ने दलित बस्ती पर धावा बोल दिया। कई घरों को आग के हवाले कर दिया, जमकर तोड़फोड़ की। इस मामलें में यूपी पुलिस ने ताबड़तोड़ कार्यवाही करते हुए 35 लोगों को गिरफ्तार कर लिया।

इतनी बड़ी घटना होनें के बावजूद दलितों के ठेकेदार चुप थे, सोशल मीडिया ने इनकी कथित चुप्पी पर सवाल उठाया। सोशल मीडिया पर आलोचना होनें के बाद भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर रावण ने इस मामलें पर एक वीडियो जारी किया है. 2 मिनट 9 सेकण्ड के वीडियो में चंद्रशेखर रावण आरोपियों के खिलाफ कुछ भी बोलने से बचते दिखाई दे रहे हैं।

वीडियो जारी कर भीम प्रमुख चंद्रशेखर रावण ने कहा की, जौनपुर भदेही की घटना बहुत ही कष्टकारी है, मानवता को शर्मशार कर देनें वाली है, मैं कड़ी कार्यवाही की मांग करता हूँ, दलितों पर किसी भी तरह का हमला बर्दाश्त नहीं है. मैं इसके लिए पूरे समाज से वचनबद्ध हूँ।

चंद्रशेखर रावण ने आगे कहा की, जब भी कोई घटना होती है तो आप लोग सड़क पर जाकर धरना करते हैं तब जाकर बमुश्किल कार्यवाही होती है, लेकिन इस घटना में ( जौनपुर में दलितों पर बर्बरता ) तुरंत और सख्त कार्यवाही हुई, क्योंकि ये आरएसएस के छिपे हुए एजेंडें में फिट बैठती है। उन्होंने कहा, जब बहुजन आपस में लड़ते हैं तो उनका कार्य आसान हो जाता है. लेकिन जब बहुजन आपस में लड़ते हैं तो मुझे बड़ा दुःख होता है।

भीम आर्मी प्रमुख ने कहा की, मैं बहुजन एकता के लिए काम कर रहा हूँ। लेकिन इस एकता को तोड़ने के लिए तरह-तरह के षणयंत्र हो रहे हैं और होते रहेंगें। आपको ( बहुजनों ) को सावधान रहना है, चंद्रशेखर ने कहा, पिछले दो दिनों में जिस तरह से इस घटना पे बहुत से लोगों को द्वारा घड़ियाली आंसू बहाये गए, ये वही लोग हैं जो SC/ST और आरक्षण के खिलाफ बहुजनों को कोसते हैं। लेकिन आज इतने हितैषी कैसे हो गए. आपको समझना पड़ेगा। यूपी में और भी घटनाएं हो रही हैं. इस दौरान चंद्रशेखर ने कई घटनाओं का जिक्र किया और दावा किया की दलितों पर अत्याचार हुई लेकिन कोई कार्यवाही नहीं हुई।

इसके बाद चंद्रशेखर रावण ने कहा की, जौनपुर की घटना की आड़ में जिस तरह से साम्प्रदायिकता का जहर फैलाया जा रहा है, नफरत फैलाई जा रही है, इसपर भी कार्यवाही होनी चाहिए। उन्होंने कहा की, जितनी घटनाएं यूपी में हो रही हैं, उससे साबित होता है की, यूपी की सरकार कानून का राज स्थापित करनें में फेल है. ऐसी सरकार कोई कुर्सी छोड़ देनी चाहिए।

चंद्रशेखर रावण अपनें वीडियो में समुदाय विशेष के आरोपियों के खिलाफ बोलने से बचते हुए दिखाई दिए, साथ ही पीड़ित के पक्ष में आवाज उठाने वाले को ही कटघरे में खड़ा कर दिया। इसके अलावा आरोपियों के खिलाफ तत्काल हुई कार्यवाही को आरएसएस से प्रेरित बता दिया। बेतलब आरएसएस का नाम घसीट लाये, लेकिन घटना के मास्टरमाइंड नूर आलम और जावेद सिद्दीकी का नाम तक नहीं लिया।

क्या है पूरा मामला।
जौनपुर के सरायख्वाजा थाना क्षेत्र के भदेही गाँव में मंगलवार ( 9 जून 2020 ) शाम को भैंस चरानें के विवाद में दो समुदाय के लोगों के बीच झगड़ा हो गया। प्रधानपति आफताब उर्फ हिटलर ने उस वक्त झगड़े को शांत करा दिया। पीड़ितों का आरोप है कि रात आठ बजे प्रधानपति, उसके लड़के व सलीम ने 400 के साथ दलित बस्ती पर हमला बोल दिया।

पीड़ित के मुताबिक़, हमलावरों ने नंदलाल, नींबूलाल, फिरतू, राजाराम, जीतेन्द्र, सेवालाल सहित 12-13 लोगों के मड़हों में आग लगाकर तोड़फोड़ की। कई वाहनों को भी नुकसान पहुंचाया गया, आग की चपेट में आने से तीन बकरियों व एक भैंस की मौत हो गई। डीएम व एसपी मंगलवार रात ही घटना की सूचना मिलने के बाद मौके पर पहुंच गए थे. प्रसाशन ने पीड़ितों को 5000 रुपये और राशन उपलब्ध कराया।

पुलिस अधीक्षक ( एसपी ) ने जानकारी देते हुए बताया कि भदेठी कांड में 35 लोगों की गिरफ्तारी हो चुकी है. डीएम ने कहा कि यह बहुत बड़ी घटना है. जिन लोगों के मकान जलाए गए हैं उनकी सुरक्षा, रहने व खाने-पीने की व्यवस्था प्रशासन करेगा।

वहीँ इस पूरे मामलें पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सख्त हो गए हैं। सीएम ने आरोपियों पर तत्काल एनएसए लगानें का आदेश दिया है। बता दें की, इस पूरी घटना के मास्टरमाइंड नूर आलम और जावेद सिद्दीकी हैं, जावेद सपा नेता भी है अखिलेश यादव से करीबी सम्बन्ध बताये जा रहे हैं इसके।