सुनों बुद्धिजीवियों, हिन्दू धर्म का गुण हमेशा मानवता रहा है, सेक्युलरिज्म मत सिखाओ: अरुण गोविल

नई दिल्ली, 14 जून: हिन्दू धर्म पर टिप्पणी करनें वाले बुद्धिजीवियों को रामायण के राम अरुण गोविल ने करारा जवाब देते हुए कहा की, हिन्दू धर्म का गुण हमेशा मानवता, इंसानियत रही है। कृपया बुद्धिजीवी हिन्दू धर्म को सेक्युलरिज्म न सिखाएं।

रामायण सीरियल में राम का किरदार निभानें वाले एक्टर अरुण गोविल ने अपनें ट्वीट में लिखा, वो हिन्दू धर्म जो सदा ही उदारवादी रहा है, संवेदनशीलता और मानवता जिसका गुण रहा है। उसे सेक्युलरिज्म मत सिखाओ ऐ बुद्धिजीवियो, सदा इंसानियत जिसका गुरूमंत्र रहा है।

दरअसल आजकल कुछ तथाकथित बुद्धिजीवी हिन्दू धर्म पर फर्जी ज्ञान बांटते हैं। अभद्र टिप्पणी करते हैं, ऐसे बुद्धिजीवियों को अरुण गोविल ने करारा जवाब दिया है। हो सकता है इस ट्वीट के बाद अरुण गोविल को बुद्धिजीवी संघी घोषित कर दें।गोविल के इस ट्वीट के बाद सोशल मीडिया पर उन्हें जमकर समर्थन मिल रहा है।

गौरतलब है कि, देश में कोरोना वायरस के चलते सबसे पहले जब लॉकडाउन की घोषणा की गई थी, तब लोगों की मांग पर पौराणिक शो ‘रामायण’ डीडी नैशनल पर पुनः प्रसारण किया गया था। लोगों ने भी रामायण को जमकर प्यार और दुलार दिया और सबसे ज्यादा देखा जानें वाले शो बन गया। रामायण की टीआरपी के सामनें बड़े-बड़े प्रोग्राम धराशायी हो गए।

रामायण के पुनः प्रसारण के बाद इसके मुख्य किरदार भी काफी चर्चा में रहे, जिसमें भगवान राम ( अरुण गोविल ) दीपिका चिखलिया (माँ सीता ) सुनील लहरी ( लक्ष्मण ), टीवी चैनल वाले इन लोगों को डिबेट्स में भी बुलानें लगे। इसके बाद सोशल मीडिया पर अरुण गोविल के नाम से सैकड़ों फर्जी अकाउंट बन गए। इसके बाद अरुण खुद ही सोशल मीडिया पर आ गए। ट्विटर ने भी उनके अकाउंट को वेरिफाइड कर दिया ताकि लोग भमित न हो सकें। इसके बाद से ही अरुण गोविल सोशल मीडिया पर भी सक्रीय हो गए और अब सोशल मीडिया के माध्यम से अपनें विचार व्यक्त करते हैं।