बाबा रामदेव को कोसते-कोसते मानसिक संतुलन खो बैठी वायर वाली आरफा खानम, लोग उड़ाने लगे मजाक

देश-दुनिया में पिछले कई महीनों से कोरोना वायरस कहर बरपा रहा है, दुनियाभर के बड़े-बड़े वैज्ञानिक जुटे हैं कोरोना की वैक्सीन ढूढनें में लेकिन अभी किसी को सफलता नहीं प्राप्त हुई लेकिन ‘पतंजलि रिसर्च इंस्टीट्यूट’ ने कोरोना की दवा “कोरोनिल” को बनानें का दावा किया।

पतंजलि के निदेशक बाबा रामदेव द्वारा ‘कोरोनिल टैबलेट’ टेबलेट लॉन्च किये जानें के बाद अब बाबा के विरोधी भी सक्रिय हो गए हैं, बाबा रामदेव को कोसते-कोसते पत्रकार आरफा आरफा खानम शेरवानी अपना मानसिक संतुलन तक खो बैठी।

न्यूज़ पोर्टल ‘द वायर’ की पत्रकार आरफा खानम शेरवानी का कहना है की जो 14-15 लोग कोरोना से मर चुके हैं उनसे पूछा जाना चाहिए इस दवा ( कोरोनील ) के बारें में, अब आरफा को कौन समझाए कि जो इस दुनिया से चला गया है वो क्या बताएगा इस दवा के बारें में। आरफा का ये वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है.

वीडियो में आरफा खानम शेरवानी कहती हैं कि आप सभी लोगों को बधाई देना चाहती हूँ कि भारत ने कोरोना वायरस का ईलाज पैदा कर दिया है, दवा तैयार कर दी है भारत ने, आरफा आगे कहती हैं दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र जहाँ 130 करोड़ लोग रहते हैं ऐसे देश से उम्मीद की जा रही थी कि वो कोरोना वायरस की दवाई बनाएगा और ये दवाई बना ली है बाबा रामदेव ने.

पत्रकार आरफा खानम ने कहा कि सामाजिक नजरिये से इसे किस तरीके से देखा जाना चाहिए, खासकर ऐसे वक्त में जब हजारों की तादाद में लोग कोरोना वायरस से संक्रमित हो रहे हैं, आरफा ने कहा, भारत में 14-15 हजार लोगों की कोरोना से मौत हो चुकी है, उन लोगों से यह पूछा जाना चाहिए कि जब वो इस दवा के बारें में सुनते हैं और किस तरह से 130 करोड़ लोगों के स्वास्थ्य के साथ खिल्ली उड़ानें जैसा जो प्रचार है उसको किस तरह से देखते है।

गौरतलब है कि बाबा रामदेव ने देशी सामानों मुलैठी, गिलोय, अश्वगंधा, तुलसी, श्वासारि आदि की मदद से कोरोना की आयुर्वेदिक दवा ‘कोरोनिल’ तैयार किया और लॉन्च कर दिया। आयुष मंत्रालय ने इस दवा के प्रचार-प्रसार पर रोक लगा दी है।

भारत सरकार के अंतर्गत आने वाला आयुष मंत्रालय ने पतंजलि की दवा कोरोनिल से किनारा काट लिया है, आयुष मंत्रालय ने कहा है कि उसे इस दवा के संबंध में तथ्‍यों के दावे और वैज्ञानिक शोध के संबंध में कोई जानकारी नहीं है। इसके साथ ही आयुष मंत्रालय ने पतंजलि आयुर्वेद की ओर से दवा के दावों का विज्ञापन और प्रचार बंद करने को कहा है।

कोरोनिल को लॉन्च करते हुए रामदेव ने कहा कि आयुर्वेदिक दवा ‘कोरोनिल’ से तीन दिन के अंदर 69 फीसदी मरीज रिकवर हो गए. यानी पॉजिटिव से निगेटिव हो गए। वहीं, इस दवा के जरिए 7 दिन में 100 फीसदी मरीज ठीक हुए हैं, बाबा ने दावा किया कि रिचर्स के बाद आयुर्वेदिक दवा कोरोनिल का 280 कोरोना रोगियों पर सफल परीक्षण किया गया है। दवा को पूरे रिसर्च के साथ तैयार किया गया है औऱ इसके अच्छे रिजल्ट आ रहे हैं। हमारी आयुर्वेदिक दवा कोरोनिल का 100% रिकवरी रेट है और डेथ रेट जीरो है। साथ ही बाबा रामदेव ने कहा कि आयुष मंत्रालय से जो लेटर आया था उनको भी उत्तर दे दिया गया है।

loading...