कोरोना के आगे केजरीवाल ने टेके घुटनें, गृहमंत्री अमित शाह ने संभाली दिल्ली की कमान

नई दिल्ली, 15 जून: दिल्ली में कोरोना वायरस का प्रकोप जारी है। रोजाना एक हजार से ज्यादा कोरोना केसेज आ रहे हैं। दिल्ली में दिन-प्रतिदिन हालात बहुत भयावह होते चले जा रहे हैं। दिल्ली की लचर स्वास्थ्य सुविधाओं को देखकर ऐसा लगता है की, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल अब कोरोना के सामनें घुटनें टेक चुके हैं, जिसकी वजह से अब अमित शाह को दिल्ली की कमान संभालनी पड़ी है, जी हाँ!

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने रविवार को दिल्ली में कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप को लेकर एक समीक्षा बैंठक की, इस बैठक में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल, उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया, उपराज्यपाल अनिल बैजल समेत तमाम अधिकारी शामिल हुए।

मीटिंग समाप्त होनें के बाद केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने कहा की, दिल्ली में कोरोना से संक्रमित मरीजों के लिए बेड की कमी को देखते हुए केंद्र की मोदी सरकार ने तुरंत 500 रेल्वे कोच दिल्ली को देने का निर्णय लिया है। इन रेलवे कोच से न सिर्फ दिल्ली में 8000 बेड बढ़ेंगे बल्कि यह कोच कोरोना संक्रमण से लड़ने के लिए सभी सुविधाओं से लेस होंगे।

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने बताया की दिल्ली के निजी अस्पताओं में कोरोना संक्रमण के इलाज के लिए निजी अस्पतालों के कोरोना बेड में से 60% बेड कम रेट में उपलब्ध कराने, कोरोना उपचार व कोरोना की टेस्टिंग के रेट तय करने के लिए डॉ. पॉल की अध्यक्षता में एक कमेटी बनाई गयी है जो कल तक अपनी रिपोर्ट प्रस्तुत करेगी।

इसके बाद सोमवार को गृहमंत्री अमित शाह ने दिल्ली में बढ़ते कोरोना कहर को लेकर सर्वदलीय मीटिंग की, सभी पार्टियों के मुखिया शामिल हुए. मीटिंग ख़त्म होनें के बाद गृहमंत्री अमित शाह दिल्ली के एलएनजेपी हॉस्पिटल पहुंचे और कोरोना से निपटनें की तैयारियों का जायजा लिया। दिल्ली कोरोना को कोरोना मुक्त बनानें के लिए अब अमित शाह ने अपनें हाथ में कमान संभाल ली है। मालूम हो की कुछ दिन पहले एलएनजेपी हॉस्पिटल का एक वीडियो वायरल हुआ था, जिसमें शवों के बीच में कोरोना मरीजों का ईलाज किया जा रहा था। वीडियो को संज्ञान में लेते हुए सुप्रीम कोर्ट ने भी केजरीवाल सरकार को फटकार लगाई थी।

loading...