महाराष्ट्र और पश्चिम बंगाल में हालात बेकाबू, डरा रही है कोरोना से मरने वालों की संख्या

महाराष्ट्र/बंगाल, 10 मई: महाराष्ट्र और पश्चिम बंगाल में कोरोना के मामलें दिन-प्रतिदिन बढ़ते जा रहे हैं और दोनों राज्यों में हालात बेकाबू हो रहे हैं, महाराष्ट्र और पश्चिम बंगाल में कोरोना वायरस के कारण मृत्यु दर बढ़ता जा रहा है और अधिकारियों के पास इस मुद्दे पर कुछ कहने के लिए जवाब ही नहीं है।

कभी मरीजों को देर से अस्पताल में भर्ती करना बता दिया जाता है, कभी अलग स्ट्रेन तो कभी तबलीगी जमात को बढ़ते मामलों की वजह बता दी जाती है। कोई भी एक वजह पर टिका नहीं है। इन सबके के बीच, केंद्रीय गृह मंत्रालय ने कोरोनो वायरस पर पारदर्शिता की कमी के लिए पश्चिम बंगाल की ममता बनर्जी सरकार पर करारा हमला किया।

कोरोना वायरस के मामले में महाराष्ट्र पहले पायदान पर है जबकि पश्चिम बंगाल आठवें नंबर पर है लेकिन बंगाल की ममता सरकार पर चारों तरफ से कोरोना के आंकड़े छुपाने के आरोप लग रहे हैं। ममता सरकार इस पर कोई भी जवाब देने से बच रही है।

इससे साफ़ अंदाजा लगाया जा सकता है की बंगाल सिर्फ कागजों में आठवें नंबर पर है बाकी हकीकत क्या है वो बंगाल चीख-चीखकर चिल्ला रहा है, पश्चिम बंगाल की बात करें तो यहां कोरोनावायरस के 1,786 मामले हैं, जिनमें से 171 की मौत हो चुकी है. जबकि महाराष्ट्र में 20 हजार से ज्यादा कोरोना के केस आ चुके हैं और 700 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है.

Sponsored Articles
loading...