अगर केजरीवाल 10 लाख लोगों को खाना खिला रहे तो दिल्ली से लाखों मजदूर भाग क्यों रहे हैं: VHP

नई दिल्ली, 30 मई: कोरोना वायरस का प्रकोप देशभर में तेजी से बढ़ रहा है। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल का कहना है की, हम सब व्यवस्था कर रहे हैं, दिल्लीवालों को चिंता करनें की कोई बात नहीं है। खासकर प्रवासी मजदूरों को। केजरीवाल के इन दावों पर विहिप ने सवालिया निशान लगा दिए हैं। विश्व हिन्दू परिषद् का कहना है की, अगर केजरीवाल रोजाना 10 लाख लोगों को खाना खिला रहे हैं तो लाखों मजदूर दिल्ली से भाग क्यों रहे हैं।

विश्व हिन्दू परिषद् के राष्ट्रीय प्रवक्ता विजय शंकर तिवारी ने ट्वीट कर कहा की, अगर केजरीवाल रोजाना 10 लाख लोगों को खाना खिला रहे हैं तो लाखों मजदूर दिल्ली से भाग क्यों रहे हैं।

विजय शंकर तिवारी ने ट्वीट में लिखा, केजरीवाल ने मीडिया में घोषणा कि कोराना पीडितों के लिए 30 हजार बेड है। कोर्ट की फटकार पड़ी तो 3000 बीएड का ही ब्योरा दे पाए, विहिप प्रवक्ता ने आगे लिखा, केजरीवाल लम्बी-लम्बी मारते रहते हैं कि रोजाना 10 लारव को खाना खिला रहे हैं, अगर ऐसा है तो दिल्ली से लाखों मजदूर भागे क्यों। इसके अलावा तिवारी ने आरोप लगाया की, केजरीवाल दूसरों की रसोईं को अपना बता रहे हैं।

बता दें की, लॉकडाउन के दौरान दिल्ली से कई लाख प्रवासी मजदूर पलायन कर चुके हैं, ज्यादातर मजदूरों का यही कहना है की यहाँ ( दिल्ली ) भूखे मरने से बढ़िया अपने गांव चले जाएँ। आये दिन सोशल मीडिया पर ऐसे वीडियो वायरल होते रहते हैं जो केजरीवाल के दावों प्रश्नचिन्ह लगाते हैं। कई इसे भी वीडियो वायरल हो चुके हैं। जिसमें खाना के नाम पर पूरा पानी रहता है।

loading...