सुप्रीम कोर्ट में कपिल सिब्बल पर बरसे सॉलिसिटर जनरल, कहा- चले आएं है क़यामत के पैगंबर बनने

नई दिल्ली, 29 मई: सुप्रीम कोर्ट ने गुरूवार को प्रवासी मजदूरों के मुद्दों को लेकर सुनवाई की, इस दौरान केंद्र सरकार की तरफ से पेश हुए सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता कांग्रेस नेता और सुप्रीम कोर्ट के वकील कपिल सिब्बल पर जमकर बरसे।

तुषार मेहता ने उन लोगों पर सवाल उठाया जो प्रवासी मजदूरों के मुद्दों पर दखल देना चाहते हैं। यही नहीं मेहता ने ऐसे लोगों को क़यामत का पैगंबर करार दिया।

सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा की, यह सब लोग इंटरव्यू दे रहे हैं, सोशल मीडिया पर लिख रहे हैं। लेकिन ये लोग बिल्कल इस बात को तैयार मानने के लिए तैयार नहीं हैं की देश में कितना कुछ किया जा चुका है। मेहता ने कहा, केंद्र एवं राज्य सरकारें दिन-रात मेहनत कर रही हैं प्रवासी मजदूरों के लिए इनको दिखाई नहीं दे रहा है।

इशारों-इशारों में कपिल सिब्बल पर निशाना साधते हुए तुषार मेहता ने कहा की, इन लोगों को अपनी विश्वसनीयता साबित करने दी जाए। ये लोग करोड़ों कमा रहे हैं। लेकिन क्या इन्होनें एक रुपया खर्च किया है नहीं? ये लोग सिर्फ ऐसी कमरों में बैठकर आलोचना करते है।

इतनें सारे आरोप लगनें के बाद जब कपिल सिब्बल बहस करनें उठे तो मेहता ने कहा, कोर्ट को राजनितिक प्लेटफॉर्म नहीं बनाया जा जा सकता। उन्होंने कहा, कपिल सिब्बल दो संगठनों की तरफ से पेश हुए हैं। लेकिन इस राजनितिक मुद्दा न बनायें तो ज्यादा ठीक रहेगा। अपनी सफाई में कपिल सिब्बल ने कहा की, जरूरत मंदों को नेशनल डिजास्टर एक्ट के तहत खाने, पीने एवं अन्य चीजों की व्यवस्था की जानी चाहिए लेकिन अभी तक कुछ नहीं किया गया।

बता दें कि, सुप्रीम कोर्ट ने प्रवासी मजदूरों के मुद्दों को स्वयं संज्ञान लेकर इस मामलें की सुनवाई की थी। जस्टिस अशोक भूषण, एसके कौल और एमआर शाह की पीठ ने केंद्र एवं राज्य सरकार से जवाब माँगा है।

loading...