शिवपाल यादव और अखिलेश यादव में हो सकती है सुलह, समाजवादी पार्टी ने लिया ये बड़ा फैसला

लखनऊ, 28 मई: देशभर में इस समय कोरोना वायरस का प्रकोप चल रहा है, इस बीच उत्तर प्रदेश से एक बड़ी खबर आई है, जी हाँ! खबर यह है की, यूपी की राजनीति के दो दिग्गज नेताओं में सुलह हो सकती है। ये दोनों नेता कोई और नहीं बल्कि सगे चाचा-भतीजे शिवपाल यादव और अखिलेश यादव हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक़, समाजवादी पार्टी ने बड़ा फैसला लेते हुए शिवपाल यादव की विधायकी रद्द करने वाली विधानसभा में दायर याचिका वापस ले ली है। सपा के इस फैसले के बाद यूपी की सियासत दिलचस्प मोड़ पर पहुँच गई है। अगर शिवपाल यादव और अखिलेश यादव के बीच सुलह हुई तो समाजवादी पार्टी एक बार फिर फ्रंट-फुट पा आ जायेगी।

खबर यह भी है की, विधानसभा में दायर याचिका वापस होनें के बाद दोनों पक्षों को मिलाने वाले और तोड़ने वाले गुट भी सक्रिय हो गए हैं। देखना यह दिलचस्प होगा की कौन सा गुट कामयाब होता है तोड़ने वाला या जोड़ने वाला।

बता दें की, उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव से मनमुटाव होनें के बाद सपा नेता शिवपाल सिंह यादव ने पार्टी से इस्तीफ़ा देकर प्रगतिशील समाज पार्टी ( प्रसपा ) का गठन किया। शिवपाल यादव के पार्टी बनानें के बाद समाजवादी पार्टी ( सपा ) ने शिवपाल यादव की विधायकी रद्द करानें के लिए विधानसभा में याचिका दायर कर दी। ध्यान रहे की सपा में रहते हुए शिवपाल विधायक थे। हालाँकि सपा की याचिका अभी यूपी विधानसभा में विचाराधीन है। लेकिन समाजवादी पार्टी ने अब याचिका को वापस लेनें का ऐलान कर दिया है।