कांग्रेस-सेना साशित राज्य में ट्रेन से कटे 16 मजदूर, राहुल गांधी बोले- हमें खुदपर आनी चाहिए शर्म

औरंगाबाद, 8 मई: महाराष्ट्र के औरंगाबाद में आज सुबह 16 प्रवासी मजदूरों की ट्रेन से कटकर मौत हो गई। मजदूरों की मौत पर कांग्रेस ने केंद्र सरकार को घेरने के लिए सियासत भी शुरू कर दी है। लेकिन कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी शायद ये भूल गए की जहाँ ये दर्दनाक हादसा हुआ है और 16 मजदूरों की मौत हो गई है। वहां कांग्रेस-शिवसेना और एनसीपी की सरकार है।

राहुल गांधी ने ट्वीट करके कहा की, मालगाड़ी से कुचले जाने से मजदूर भाई-बहनों के मारे जाने की ख़बर से स्तब्ध हूं। हमें अपने राष्ट्र निर्माणकर्ताओं के साथ किये जा रहे व्यवहार पर शर्म आनी चाहिए। मारे गए लोगों के परिवारों के प्रति संवेदना व्यक्त करता हूं और घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की प्रार्थना करता हूं।

राहुल गांधी ने केंद्र सरकार को घेरने के लिए ट्वीट में लिखा, हमें अपने राष्ट्र निर्माणकर्ताओं के साथ किये जा रहे व्यवहार पर शर्म आनी चाहिए। लेकिन राहुल गांधी शायद ये भूल गए की अगर महाराष्ट्र की कांग्रेस-शिवसेना सरकार इन मजदूरों को रहने खाने की व्यवस्था करती तो ये मजदूर वापस लौटने को मजबूर ही न होते।

ये सभी मजदूर महाराष्ट्र से छत्तीसगढ़ लौट रहे थे। छत्तीसगढ़ में भी कांग्रेस सरकार है। अगर सरकार मजदूरों के प्रति संवेदनशील होती तो इन मजदूरों को बसों या ट्रेनों के जरिये इनके घर पहुंचाती। लेकिन शायद छत्तीसगढ़ के इन मजदूरों को इनकी राज्य सरकार से उम्मीद नहीं जगी की वो इन्हें ले जाएगी। संभवतः इसीलिए ये मजदूर पैदल ही अपने घर को निकल दिए, लेकिन घर पहुँचने से पहले ही इनकी रास्ते में असमय मृत्यु हो गई। कुल मिलाकर इस दर्दनाक हादसे में चौतरफा घिर रही है। उसके बावजूद राहुल गांधी सियासत करने से नहीं बाज आ रहे हैं।

बता दें कि – 18-20 प्रवासी मजदूर महाराष्ट्र से पैदल अपने घर छत्तीसगढ़ जा रहे थे, इस दौरान औरंगाबाद के जालना रेलवे लाइन पर सभी मजदूर सो गए। इसके बाद मालगाड़ी आई और कुचलते हुए निकल गई, बताया जा रहा है की ये हादसा सुबह तकरीबन साढ़े 5 बजे के आस-पास हुआ है। इस हादसे में 16 मजदूरों की मौत हो गई है।