मोदी सरकार का बड़ा फैसला: मारे गए आतंकियों न तो मिलेगी बॉडी, ना चलेगा कब्र का पता

जम्मू कश्मीर, 6 मई: भारतीय सेना ने आज कश्मीर घाटी में 12 लाख के इनामी कुख्यात आतंकी रियाज नायकू को मार गिराया। रियाज नायकू बुरहान वानी के बाद आतंकी संगठन हिजबुल मुजाहिद्दीन का कमांडर था. सुरक्षाबलों को इसकी तलाश लंबे वक्त से थी।

कई बार आतंकी रियाज सुरक्षाबलों के हाथ आकर बच निकाल लेकिन इस बार ऐसा नहीं हुआ। सुरक्षाबलों ने मुठभेड़ में रियाज और उसके साथी आतंकियों को मार गिराया। रियाज की मौत के बाद अवंतीपोरा में स्थानीय लोगों ने सुरक्षाबलों पर पत्थरबाजी शुरू कर दी।

घाटी में माहौल न बिगड़ने पाए इको देखते हुए इंटरनेट और वॉयस कॉल की सुविधा को बंद कर दिया गया है ताकि किसी तरह की अफवाह घाटी में न फैलाई जा सके। वहीँ सूत्रों के हवाले से खबर है की आतंकी रियाज का शव उसके परिवार को नहीं सौंपा जाएगा।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक़, गृहमंत्रालय ने आदेश दिया है की अब किसी भी आतंकी की डेड बॉडी नहीं सौंपी जा जायेगी। और न ही उसके कब्र का पता चलेगा। गौरतलब है की आतंकी बुरहान वानी की मौत के जनाजे में हजारों कश्मीरी शामिल हुए थे। हालात अनियंत्रित हो गए थे। शायद इसीलिए मोदी सरकार ने ये फैसला लिया है।