लॉकडाउन में मजदूरों के लिए मोदी सरकार ने खोले खजाने, 3500 करोड़ दिए?

नई दिल्ली, 13 मई: वैश्विक महामारी कोरोना के चलते पिछले डेढ़ महीनें से लगे लॉकडाउन के बाद उपजे हालात को मद्देनजर रखते हुए मोदी सरकार ने मजदूरों के लिए अपने खजानें लिए खोल दिए हैं। गौरतलब है की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना से लड़ने के लिए 20 लाख करोड़ के आर्थिक पैकेज का ऐलान किया है। इसी को लेकर पिछले दो दिनों से वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण प्रेस-कॉन्फ्रेंस करके जानकारी दे रही हैं।

वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने आज प्रवासी मजदूरों, स्ट्रीट वेंडर्स (रेहड़ी पटरी वाले), छोटे किसानों और शहरी गरीबों के लिए भी घोषणाएं की हैं।

वित्तमंत्री ने कहा की, घर लौटने वाले मजदूर अपने इलाके में ही मनरेगा के तहत काम कर सकेंगे, मनरेगा से मजदूरों की मदद के लिए 1.4 करोड़ रोजगार सृजन किया जाएगा। न्यूनतम वेतन का अंतर खत्म होगा। ऐसी की योजनाएं मजदूरों के लिए चलाई जाएंगी।

इसके अलावा वित्तमंत्री सीतारमण ने कहा – एक देश एक राशन कार्ड, हर शहर में एक राशन कार्ड चलेगा। 8 करोड़ प्रवासी मजदूरों को इसका फायदा मिलेगा. इसके लिए 3500 करोड़ का इंतजाम किया जा रहा है। ताकि मजदूरों को कोई दिक्कत न हो।