बुरी तरह फंसी प्रियंका, मायावती बोलीं- कांग्रेस के पास सच में 1000 बसें हैं तो तुरंत लखनऊ भेजें

लखनऊ, 19 मई: प्रवासी मजदूरों के लिए 1000 बसें की चलाने की इजाजत मांगनें वाली कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी अब चौतरफा फंस गई हैं। अब इस मामलें में बसपा अध्यक्ष मायावती भी कूद पड़ी हैं।

उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री और बसपा अध्यक्ष मायावती ने कहा की, बी.एस.पी. का यह भी कहना है कि यदि कांग्रेस पार्टी के पास वास्तव में 1,000 बसें हैं तो उन्हें लखनऊ भेजने में कतई भी देरी नहीं करनी चाहिये, क्योंकि यहाँ भी श्रमिक प्रवासी लोग भारी संख्या में अपने घरों में जाने का काफी बेसबरी से इन्तज़ार कर रहें हैं।

गौरतलब है की, लॉकडाउन के दौरान दूसरे राज्यों में फंसे प्रवासी मजदूरों के लिए प्रियंका गांधी ने 1000 बसें चलवानें के लिए यूपी सरकार से इजाजत मांगी थी. सरकार से मंजूरी मिलनें के बाद प्रियंका ने बसों की लिस्ट यूपी सरकार को भेजी है. जिस पर बीजेपी ने दावा किया है कि लिस्ट में कई तीन पहिया वाहनों के नंबर समेत कारों के नंबर शामिल हैं।

यूपी सरकार ने सोमवार देर रात प्रियंका गांधी को पत्र भी लिखा था जिसमें सरकार ने कहा था कि बसों को पहले फिटनेस जांच के लिए यूपी भेजा जाए. इसके जवाब में प्रियंका ने कहा था कि बसों को लखनऊ भेजना संसाधनों का खर्च और समय की बर्बादी होगी।

लेकिन प्रियंका गांधी ने जिन १०० बसों की लिस्ट यूपी सरकार को भेजी थी, उनमें से ज्यादातर नंबर चेक करने के बाद बाइक, ऑटो एवं अन्य छोटे वाहनों के निकले। इस मसलें पर कांग्रेस फंस गयी है।