ममता बनर्जी नहीं चाहती फंसे हुए मजदूर जाएँ अपने घर, ट्रेन चलाने का किया विरोध

नई दिल्ली, 11 मई: लॉकडाउन के कारण देश के अलग-अलग राज्यों में फंसे मजदूरों/कामगारों को उनके गंतव्य तक पहुंचाने के लिए इंडियन रेलवे ने 12 मई से कुछ ट्रेनों का संचालन करने का ऐलान किया है। रेलवे के इस फैसले के बाद मजदूरों में ख़ुशी की लहर दौड़ पड़ी। हालाँकि ममता बनर्जी ने ट्रेन चलाने का विरोध किया है।

दरअसल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज एक बार फिर लॉकडाउन के दौरान देश के सभी मुख्यमंत्रियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये चर्चा की और लॉकडाउन के कारण उभरे हालात पर उनकी राय जानी।

सूत्रों के मुताबिक, इस मीटिंग में पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने ट्रेन सर्विस को बहाल किए जाने का विरोध किया है। दरअसल, लॉकडाउन के बीच मोदी सरकार ने 12 मई से सीमित ट्रेन सेवा शुरू करने का फैसला लिया है। अंग्रेजी न्यूज चैनल टाइम्स नाउ ने सूत्रों के हवाले से बताया है कि ममता ने स्पेशल ट्रेनों को चलाए जाने पर ऐतराज जताया है।

बता दें कि – लॉकडाउन के कारण बंद पड़ी ट्रेनों का संचालन 12 मई से शुरू होगा। रेल मंत्रालय ने इसे लेकर एक विस्तृत योजना का निर्माण भी किया है। शुरुआत में कम संख्या में ही ट्रेनों का संचालन किया जाएगा। इस दौरान यात्रा करनें वाले लोगों के स्वास्थ्य और कोरोना वायरस की जांच भी की जाएगी। जोकि होनी भी चाहिए।

आदेश के मुताबिक, 12 मई से शुरुआत में सिर्फ 15 जोड़ी ट्रेनें चलाई जाएंगी। ये विशेष ट्रेन नई दिल्ली से ही चलेंगी और डिब्रूगढ़, अगरतला, हावड़ा, पटना, बिलासपुर, रांची, भुबनेश्वर, सिकन्दराबाद, बेंगलुरु, चेन्नई, तिरुवनंतपुरम, मडगांव, मुंबई,अहम्बदबाद, जम्मू तवी के लिए चलेंगी। हालांकि इस ट्रेन पर यात्रा करनें से पहले स्वास्थ्य परिक्षण होगा और मास्क लगाना अनिवार्य होगा।

Sponsored Articles
loading...