प्रवासी मजदूरों की मदद के लिए सरकार के साथ मिलकर काम कर रहे 92 हजार से ज्यादा समाजसेवी संगठन

नई दिल्ली, 4 मई: कोरोना वायरस के चलते लॉकडाउन के दौरान केंद्र सरकार के साथ मिलकर 92 हजार से ज्यादा समाजसेवी संगठन प्रवासी मजदूरों की मदद के लिए काम कर रहे हैं.

अधिकार-प्राप्‍त छठे समूह के अध्‍यक्ष अमिताभ कांत ने बताया कि कोरोना से मुकाबले के लिए उनका समूह किस प्रकार सामाजिक संगठनों, गैर-सरकारी संगठनों, उद्योग जगत और अंतर्राष्‍ट्रीय संगठनों के साथ मिलकर काम कर रहा है। उन्‍होंने कहा कि समूह ने 92 हजार से ज्‍यादा गैर-सरकारी संगठनों और सामाजिक संगठनों से अपील की है कि वे हॉटस्‍पॉट की पहचान करने में राज्‍यों और जिलों की मदद करें तथा प्रवासी कामगारों और अन्‍य जरूरतमंदों की मदद करें।

उन्‍होंने कहा कि नीति आयोग का आकांक्षी जिला कार्यक्रम सर्वाधित पिछड़े 112 जिलों में लाखों लोगों के जीवन को बेहतर बनाने की दिशा में बहुत सफल रहा है। अधिकारी ने कहा कि इन जिलों में ऐसे 610 मामले हैं और यह संख्‍या दो प्रतिशत के राष्‍ट्रीय औसत से कम है। उन्‍होंने यह भी कहा कि आरोग्‍य सेतु ऐप में टेलीमेडिसिन की सुविधा जोड़ी गई है। अब तक इसे लगभग एक करोड़ 90 लाख लोग डाउनलोड कर चुके हैं।