कोरोना मौतों का आंकड़ा लगातार छिपा रही है केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने खोली पोल

नई दिल्ली, 30 मई: वैश्विक महामारी कोरोना वायरस का प्रकोप देश में तेजी से बढ़ रहा है। सभी राज्य सरकारें रोजाना कोरोना सम्बन्धी आंकड़े देश के सामनें रखती हैं, कोरोना से लड़ने के लिए अपनी तैयारियों को बताती हैं। परन्तु दिल्ली की केजरीवाल सरकार पर कोरोना मौतों का आंकड़ा छिपानें का आरोप लगा है। भाजपा नेता कपिल मिश्रा ने विस्तारपूर्वक केजरीवाल की पोल खोली है।

भाजपा नेता कपिल मिश्रा ने एक वीडियो सन्देश में बताया की, केजरीवाल सरकार लगातार कोरोना मौतों का आंकड़ा छिपा रही है। ये अब सामनें से दिखाई दे रहा है। कपिल ने कहा, अस्पतालों का डाटा देख लीजिये, चाहे RMLका, सफदरंगज का, LNJP का, एम्स का। सब का आंकड़ा केजरीवाल सरकार से अलग है।

इसके अलावा कपिल मिश्रा ने कहा की, चाहे शमशान घाट का डाटा उठाकर देख लीजिये, कब्रिस्तान का डाटा उठाकर देख लीजिये और नगर निगम का जो जन्म और मृत्यु प्रमाणपत्र बनाता है इन सब का डाटा उठाकर देखा जाय तो दिल्ली में 1000 से ज्यादा कोरोना मौतें दिल्ली में हो चुकी हैं। कपिल मिश्रा ने कहा की, ये वो मौतें हैं जो कन्फर्म्ड कोरोना पॉजिटिव से हुई हैं। लेकिन दिल्ली की केजरीवाल सरकार लगातार अपना डाटा छिपा रही है। मीडिया के सामनें गलत आंकड़े रख रही है।

केजरीवाल की पोल खोलते हुए कपिल मिश्रा ने बताया की, पिछले पांच दिनों से केजरीवाल सरकार कभी 20, कभी 30 मौतों का डाटा ऐड कर रही है लेकिन ये सही नहीं है। कपिल ने बताया की, अस्पतालों की मौत देखें तो केवल 28 मई को दिल्ली में आधिकारिक तौर पर 37 डेड बॉडी केवल एक पंजाबी बाग़ शमशान घाट में गई थी, ये कोरोना पॉजिटिव मौते थी और दिल्ली सरकार केवल 8 मौतें दिखा रही थी।

कपिल मिश्रा ने कहा की, केजरीवाल सरकार के डाटा में और जमीनी हकीकत में 4 गुना का अंतर है। भाजपा नेता ने कहा की, दिल्ली के किसी भी मोहल्ले में, किसी भी बस्ती में किसी भी वॉर्ड में चले जाइये हर जगह कोरोना से लोगों की मौतें हो रही हैं। परन्तु केजरीवाल सरकार लगातार झूठ बोल रही है और असली डाटा छुपा रही है। मीडिया से, दिल्ली से और देश की जनता से केजरीवाल सरकार कोरोना मौतों का आंकड़ा छुपाना चाह रही है। झूठा डाटा देने की कोशिस कर रही है।

loading...