मजदूरों को फ्री बस देने की बात करनें वाली कांग्रेस छात्रों की मदद तक का पैसा वसूल चुकी है, पढ़ें

लखनऊ, 21 मई: देशभर में कोरोना वायरस का कहर जारी है। संकट की इस घडी में घिनौनी राजनीति भी अपने चरम पर है। जी हाँ! राजनीती कोई और नहीं बल्कि कांग्रेस पार्टी कर रही है। अभी हाल ही में आपनें सुना होगा की कांग्रेस महसचिव प्रियंका गांधी गांधी वाड्रा प्रवासी मजदूरों के लिए 1000 बसें मुफ्त में चलवानां चाहती थी।

लेकिन हैरान करनें वाली बात यह है की जो कांग्रेस छात्रों की मदद तक का पैसा ले सकती है। वो मजदूरों के लिए फ्री में क्या बस चलाएगी। इण्डिया टीवी के पत्रकार सुशांत सिन्हा के मुताबिक़, हाल ही में लॉकडाउन के दौरान यूपी की योगी आदित्यनाथ सरकार राजस्थान के कोटा में फंसे छात्रों को लाई थी। छात्रों की संख्या ज्यादा होनें की वजह से 70बस राजस्थान सरकार से ली थीं।

यूपी सरकार के मुताबिक, इन बस के लिए उनसे राजस्थान सरकार ने 30 लाख से ज़्यादा का बिल भेजा है। मतलब फ्री में बस देने की बात करनेवाले पहले छात्रों की मदद तक का पैसा वसूल चुके? इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है की मजदूरों को बस देनें के नाम पर राजनीति की जा रही थी।

हालाँकि योगी सरकार ने प्रियंका गांधी को 1 हजार बसों के परमिशन दे दी। लेकिन उन बसों के नंबर, चालक और खलासी की सूची भी मांगी। कांग्रेस ने कई घंटो बाद सरकार को सूची सौंप दी। बसों के नंबर चेक करनें के बाद अधिकतर ऑटो, बाइक और अन्य छोटे-मोटे वाहन निकले।