मजदूरों को बेवकूफ बना रही कांग्रेस, सोनिया किराया देने की बात कर रही, गहलोत लट्ठ बरसवा रहे हैं

नई दिल्ली, 8 मई: देश-दुनिया कई महीनों से कोरोना की मार झेल रही है। संकट की इस घडी में भी कांग्रेस पार्टी गरीब मजदूरों को बेवकूफ बनाने से नहीं बाज आ रही है। जी हाँ। कांग्रेस की अध्यक्ष सोनिया गांधी एक तरफ मजदूरों को ट्रेन का किराया देनें की बात कर रही हैं जबकि दूसरी तरफ कांग्रेस सरकार राजस्थान बॉर्डर पर आने वाले मजदूरों पर लाठीचार्ज करवा रही है। मजदूरों के साथ ये भद्दा मजाक नहीं है तो क्या है।

गौरतलब है की गृह मंत्रालय की मंजूरी मिलने के बाद रेलवे ने स्पेशल श्रमिक ट्रेन चला दी। अलग-अलग राज्यों में फंसे मजदुर ट्रेनों से अपनें घर जा रहे हैं जबकि कुछ मजदुर बसों, साइकिलों और अन्य साधनों से अपनें घर जा रहे हैं। लेकिन राजस्थान की कांग्रेस सरकार मजदूरों को बॉर्डर नहीं क्रास करनें दे रही है। बॉर्डर क्रास करने वाले मजदूरों पर लाठीचार्ज कर रही है।

गृहमंत्रालय से ट्रेन की मंजूरी मिलने के बाद कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने ऐलान किया की, ट्रेनों से यात्रा करनें वाले सभी श्रमिकों का किराया कांग्रेस पार्टी भरेगी। जबकि सच्चाई यह है की, कांग्रेस अपनें शासित राज्यों के मजदूरों को ही किराया नहीं मुहैया करवा पा रही है।

कांग्रेस-शिवसेना और एनसीपी सरकार अगर महाराष्ट्र मे मजदूरों को भिजवाने का काम करती तो जो औरंगाबाद में 16 मजदूर मालगाड़ी से कटकर असमय मर गए शायद वो आज जिन्दा होते। लेकिन ऐसा नहीं हुआ। जबकि कांग्रेस पूरे देश में मजदूरों को किराया देने को लेकर ढिंढोरा पीट रही है।