चीनी वैज्ञानिकों का दावा: वैक्सीन नहीं बल्कि कोरोना की दवा मिल गई है

चीन के वुहान शहर से फैला कोरोना वायरस पूरी दुनिया में कहर बरपा रहा है, इसी बीच चीन से ही एक राहत भरी खबर आई है, चीनी वैज्ञानिकों का दावा है कि उन्होंने एक ऐसी दवा विकसित की है, जिससे कोरोना के फैलाव को रोका जा सकता है। यदि वैज्ञानिकों का यह दावा सही साबित होता है, तो वैक्सीन के इंतजार में बैठी दुनिया को महामारी से मुक्ति मिल सकती है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, चीन की पेकिंग यूनिवर्सिटी में वैज्ञानिकों की टीम दवा का परीक्षण कर रही है. जिससे न केवल संक्रमित मरीजों को जल्द ठीक किया जा सकता है, बल्कि यह छोटी अवधि के लिए वायरस के खिलाफ प्रतिरक्षा भी तैयार करती है।

यूनिवर्सिटी के बीजिंग एडवांस्ड इनोवेशन सेंटर फॉर जीनोमिक्स के निदेशक सुन्ने शी ने कहा कि जानवरों पर हुआ दवा का परीक्षण सफल रहा है। उन्होंने बताया कि जब हमने संक्रमित चूहों में इस न्यूट्रलाइजिंग एंटीबॉडी को इंजेक्ट किया तो पांच दिन बाद वायरल लोड 2,500 के कारक से कम हो गया था। यह दवा वायरस को कोशिकाओं को संक्रमित करने से रोकने के लिए मानव प्रतिरक्षा प्रणाली द्वारा तैयार न्यूट्रलाइजिंग एंटीबॉडी इस्तेमाल करती है। जिसे टीम द्वारा कोरोना से ठीक हुए 60 मरीजों के खून से अलग किया गया।

हालाँकि इससे पहले कई अन्य देश में कोरोना वैक्सीन बनाने का दावा कर चुके हैं लेकिन अभी किसी ने मानव पर परिक्षण नहीं किया। मानव पर परीक्षण होने के बाद स्थिति स्पष्ट हो पायेगी।