मजदूरों के लिए संकटमोचक बनी योगी सरकार: हरियाणा से आए 10 हजार मजदूरों को 400 बसें पहुंचाएंगी घर

लखनऊ, 26 अप्रैल: कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को रोकने के लिए देशभर में 3 मई तक के लिए लगाए गए देशव्यापी लॉकडाउन के बीच उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार मजदूरों के लिए मसीहा बनकर उभरी है।

हरियाणा से आए 10 हजार श्रमिकों को आज से प्रदेश के परिवहन निगम की 400 बसें सभी 75 जिलों में उनके घर तक पहुंचाएंगी। हरियाणा में काम कर रहे इन श्रमिकों को हरियाणा रोडवेज की 330 बसें में लेकर प्रदेश की सीमाओं पर लाएंगी। वहां से इन्हें प्रदेश की रोडवेज बसें सीमा से लेकर इन्हें अपने-अपने घर तक पहुंचाएंगी।

रविवार को हरियाणा रोडवेज की 330 बसें शामली, बागपत, मथुरा, नोएडा, अलीगढ़ और सहारनपुर की सीमा पर लाएंगी। हरियाणा की सीमा से लगे प्रदेश के इन जिलों में डॉक्टरों की टीम पहले से ही मौजूद होगी। यहां इनकी कोरोना को लेकर स्क्रीनिंग की जाएगी। पूरी जांच के बाद ही इन्हें घर भेजा जाएगा। श्रमिकों को सलाह दी जाएगी कि वह 14 दिनों तक घर में क्वारंटीन रहे।

इन श्रमिकों पर क्वारंटीन में निगरानी रखने की जिम्मेदारी संबधित जिला प्रशासन की होगी। श्रमिकों की पूरी जांच होने के बाद, इन्हें रोडवेज की 400 बसें सभी 75 जिलों में पहुंचाएंगी। रोडवेज की बसों में इन श्रमिकों को सोशल डिस्टैन्सिंग के साथ बैठाया जाएगा। शनिवार को हरियाणा से 82 बसें आईं।

परिवहन निगम के अधिकारियों ने बताया कि प्रदेश सरकार ने अभी हरियाणा के श्रमिकों को उनके घर तक पहुंचाने की ज़िम्मेदारी उन पर डाली है। अभी फिलहाल यही निर्देश दिए गए हैं। आगे सरकार भविष्य में प्रदेश के आस पास के राज्य – मध्य प्रदेश, राजस्थान, उत्तराखंड व बिहार के भी श्रमिकों को उनके घरों तक पहुंचने की ज़िम्मेदारी दे सकती है।

loading...