कोरोना फाइट, अब भारत के भरोसे अमेरिका, डोनाल्ड ट्रम्प ने मदद के लिए मोदी को किया फोन

us-president-donald-trump-asked-modi-help-in-corona-fight

नई दिल्ली: कोरोना वायरस महामारी से अमेरिका में त्राहि त्राहि मच गयी है, अब तक 8000 से अधिक लोगों की मौत हो गयी है और तीन लाख से अधिक लोग संक्रमित हो चुके है, पिछले तीन दिनों से अमेरिका में रोजाना 1000 से अधिक लोगों की मौत हो रही है.

अब अमेरिका भारत के भरोसे है, अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने मदद के लिए 4 अप्रैल को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को फोन किया, दोनों नेताओं के बीच काफी देर तक बातचीत हुई.

बात दरअसल ये है कि भारत सरकार ने कोरोना संकट को अच्छे तरीके से मैनेज किया है जिसकी दुनिया में जमकर तारीफ हो रही है, WHO भी मोदी सरकार का कायल हो चुका है.

कोरोना संकट आते ही भारत ने क्लोरोक़्वीनोन सहित कई दवाओं का एक्सपोर्ट रोक दिया। अमेरिकी लोगों की जान क्लोरोक़्वीनोन पर टिकी है, भारत में यह दवा भारी मात्रा में मौजूद है. भारत दवा निर्माता कंपनियों का हब है, यहाँ से दुनिया भर में मेडिसिन सप्लाई होती है, मोदी के मेक इंडिया प्रोजेक्ट के बाद दुनिया भर की दवा कम्पनियाँ भारत में आ गयीं और यहीं पर दवा बनाने लगीं। जिसकी वजह से भारत में दवाओं का भण्डार है.

अमेरिका ने भी क्लोरोक़्वीनोन का आर्डर दिया है लेकिन मोदी सरकार ने एक्सपोर्ट बंद कर दिया था जिसकी वजह से अमेरिका का आर्डर अटक गया. अब अमेरिकी लोगों की जान भी अटक गयी है, अगर भारत ने अमेरिका को क्लोरोक़्वीनोन नहीं दिया तो वहां पर बहुत ज्यादा दिक्कत हो सकती है.

इसीलिए कल डोनाल्ड ट्रम्प ने प्रधानमंत्री मोदी को फोन किया और उनका आर्डर पास करने की अपील की, मोदी ने भी उन्हें मदद का भरोसा जताया है, भारत में क्लोरोक़्वीनोन की कमी नहीं होगी क्योंकि यहाँ की दवा कंपनियों ने और अधिक मात्रा में इस दवा का निर्माण शुरू कर दिया है. दुनिया भर के डॉक्टर कोरोना मरीजों को क्लोरोक़्वीनोन दवा ही खिला रहे हैं.

loading...