टिकटॉक पर बड़ी कार्यवाही करने की तैयारी में योगी सरकार, केंद्र सरकार की भी लेगी मदद

लखनऊ, देश में तेजी से पैर पसार रहे कोरोना वायरस से संक्रमितों की संख्या आज 4 हजार के आँकड़े को पार कर गई है। इसमें तबलीगी जमात की घटना के बाद सोशल मीडिया पर निरंतर सवाल भी उठने शुरू हुए। इस मामले ने नई करवट तब ली, जब ट्विटर पर रविवार (अप्रैल 05, 2020) को ‘जिहाद फैलाता टिकटॉक’ (#जिहाद_फैलाता_TikTok) ट्रेंड करने लगा। इसके बाद उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने टिकटॉक पर कार्यवाही करने के संकेत दे दिए हैं।

दरअसल, लॉकडाउन के बावजूद देखा जा रहा है कि मुस्लिम समुदाय के लोग निरंतर लॉकडाउन के नियमों का उल्लंघन कर रहे हैं और कोरोना को लेकर हर तरह की अफवाहों को बढ़ावा दे रहे हैं।

इस प्रकार की अफवाह और वीडियो का सबसे बड़ा स्रोत सोशल मीडिया पर टिकटॉक नामक मोबाइल एप्लिकेशन बनती जा रही है। खास बात यह है कि कोरोना वायरस की महामारी के बीच भी टिकटॉक पर इस्लामिक कट्टरपंथियों द्वारा हिन्दू लड़कियों से शादी कर उन्हें इस्लाम अपनाने जैसे वीडियो भी जारी हैं। यही सब देखती हुए उत्तर प्रदेश की योगी सरकार टिकटॉक के खिलाफ कार्यवाही की तैयारी कर रही है।

उत्तर प्रदेश के गृह एवं सचिव अवनीश कुमार अवस्थी ने आज प्रेस-कॉन्फ्रेंस करते हुए बताया की, हम टिकटाॅक कम्पनी से भी संपर्क करेंगे, कैसे इस तरह के ( भड़काऊ ) वीडियो को रोका जाए, उन्होंने कहा, इसके लिए हम भारत सरकार से भी अनुरोध करेंगें की टिकटॉक पर अफवाह फैलाने वाले वीडियो को रोका जाय।

बता दें कि – सोशल मीडिया पर कई दिनों से टिकटॉक को बैन कराने की मुहिम चल रही है। लोगों का मानना है की, टिकटॉक जिहाद और अफवाह फैलाने का मुख्य अड्डा बन चुका है। इसके अलावा लोगों का मानना है कि टिकटॉक पर 70-80% मुस्लिम समुदाय के लोग हैं। जिन्हें टिकटॉक एप्लीकेशन जिहाद करने के लिए कपड़े, जूते और पैसे देता है। कुछ लोगों का कहना है कि ज्यादातर हिन्दू लड़कियाँ जिहादी टिकटकियों की फैन बन जाती हैं और उनसे बातचीत करने लगती हैं। जिसके बाद मामला मुलाक़ात तक पहुँच जाता है। और फिर बाद में वो इस्लाम कबूल कर के जिहाद का शिकार हो जाती हैं। शायद इसीलिए योगी सरकार टिकटॉक पर कार्यवाही करने की तैयारी कर रही है।