कोटा में फंसे बिहार के छात्रों को लाने के लिए पप्पू यादव ने अपने खर्चे पर भेजी 30 बसें

पटना, 30 अप्रैल: कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को रोकने के लिए देशभर में 3 मई तक लॉकडाउन लगा है। ऐसे में देश के कई राज्यों के छात्र राजस्थान के कोटा में फंस गए हैं। उत्तर प्रदेश सहित कई राज्य की सरकारों ने छात्रों को कोटा से ले आई। लेकिन बिहार सरकार छात्रों को लाने के लिए कोई कदम नहीं उठा रहा है। ऐसे में अब पूर्व सांसद पप्पू यादव छात्रों के लिए संकटमोचक बनकर उभरे हैं।

जन अधिकार पार्टी के अध्यक्ष पप्पू यादव ने अपने निजी खर्चे पर कोटा में फंसे बिहार के बच्चों को लाने के लिए 30 बसें भेजी हैं। पप्पू यादव ने कहा की, बिहार सरकार के पास धन नहीं है, मैं तन-मन-धन से हर बिहारी को बिहार लाने को प्रतिबद्ध हूं। कोटा से छात्रों को लाने हेतु वहां 30 बस लगवा दिया है। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से आग्रह है कि वह बस सेनेटाइज करवा कर, छात्रों की सुरक्षित यात्रा का इंतज़ाम सुनिश्चित कराएं।

बता दें कि – पप्पू यादव और उनकी पत्नी रंजीत रंजन दोनों लोकसभा चुनाव हारे हुए हैं, इनकी पार्टी का न तो कोई विधायक है और न सांसद। फिर भी कोटा से छात्रों को वापस लाने के लिए 30 बसें भेजी हैं। जबकि 50 सांसद और 190 विधायक वाली NDA सरकार कह रही है कि उनके पास संसाधन नहीं है।